जाट आंदोलनकारियों को मनाने की कोशिश तेज, सरकार के मंत्री और बीजेपी नेता जाट नेताओं से कर रहे हैं मुलाकात

हरियाणा सरकार ने बीस दिन से अपनी मांगों को लेकर 19 जिलों में आंदोलन पर बैठे जाट आंदोलनकारियों को मनाने की कोशिश तेज कर दी हैं… इसको लेकर जाट नेता धरना स्थल पर जाकर जाट समुदाय के साथ बैठक रहे हैं। कैबिनेट मंत्री ओपी धनखड़ ने पानीपत में जाट नेताओं के साथ बैठक की..इस बैठक में विधायक महिपाल ढांडा भी मौजूद रहे हैं। जबकि जाट नेताओं की तरफ से सूबे सिंह समैण,,ओपी मान समेत करीब सौ नेता पहुंचे…इस बैठक में मलिक गुट का कोई भी नेता शामिल नहीं हुआ।

पानीपत में कैबिनेट मिनिस्टर ओ पी धनखड़ ने 100 से ज्यादा जाट नेताओं से पानीपत में की मुलाकात

पानीपत में कैबिनेट मिनिस्टर ओ पी धनखड़ ने 100 से ज्यादा जाट नेताओं से पानीपत में की मुलाकात

हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने रोहतक में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि सरकार धरने पर बैठे लोगों की सभी मांगों को मानने के लिए तैयार है। उन्होने कहा कि जाट आरक्षण को लेकर पंजाब-हरियाणा हाइकोर्ट में केस चल रहा है। केस की पैरवी के लिए सरकार कोई कसर नहीं छोड़ रही है। वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला चरखी दादरी में धरने पर बैठे जाट समुदाय के लोगों से मुलाकात की

बीजेपी के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने चरखी दादरी में की जाट नेताओं ने मुलाकात

बीजेपी के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने चरखी दादरी में की जाट नेताओं ने मुलाकात

इससे पहले रोहतक के जसिया गांव में धरनास्थल पर अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति की अहम बैठक हुई…इस  बैठक में प्रदेश के सभी धरनों के प्रतिनिधि शामिल हुए…बैठक में जाट आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष यशपाल मलिक की अगुवाई में हुई इस बैठक में आगे की रणनीति पर चर्चा हुई..। यशपाल मलिक की तरफ से बताया गया कि सरकार ने 20 फरवरी को दूसरे दौर की बातचीत के लिए बुलावा भेजा है…

अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक ने रोहतक के जसिया में आंदोलनकारियों को किया संबोधित

अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक ने रोहतक के जसिया में आंदोलनकारियों को किया संबोधित

एक तरफ हरियाणा सरकार ने मसले को सुलझाने के लिए कोशिश तेज कर रखी है वहीं दूसरी और बलिदान दिवस के मद्देनजर केंद्र ने हरियाणा में अद्धसैनिक बलों की अठाइस और कंपनियां तैनात की हैं।

Share With:
Rate This Article