सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर शशिकला ने किया सरेंडर, बेंगलुरु सेंट्रल जेल भेजी गईं

चेन्नई

तमिलनाडु में मुख्यमंत्री पद पर ताजपोशी का इंतजार कर रहीं शशिकला अब सलाखों के पीछे पहुंच गई हैं. पूर्व एआईएडीएमके महासिचव शशिकला को सुप्रीम कोर्ट ने आय से अधिक संपत्ति मामले में 4 साल की सजा सुनाई है.

शशिकला ने बंगलुरु पहुंचकर सरेंडर किया. वहां जेल के बाहर कुछ लोगों ने वाहनों में तोड़फोड़ की और पुलिस को उन्हें खदेड़ने के लिए बल प्रयोग करना पड़ा. शशिकला को जेल में अलग से सेल भी नहीं मिली है. उन्हें 2 अन्य महिलाओं के साथ सेल में रहना पड़ेगा और कठिन परिश्रम भी करना पड़ेगा. शशिकला जेल में कैदी नंबर 9435 होंगी. उन्हें बैरक नंबर 2 में रखा गया है.

वहीं, इससे पहले शशिकला जयललिता की समाधि पर पहुंचीं और प्रार्थना की. श्रद्धांजलि देते हुए समाधि पर फूल चढ़ाए और माथा टेककर शपथ भी ली. जयललिता की समाधि के बाद शशिकला एमजीआर मेमोरियल पहुंचीं और वहां पर ध्यान लगाया.

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने शशिकला को तुरंत सरेंडर करने को कहा. सुप्रीम कोर्ट ने शशिकला की तरफ से दी गई उस याचिका को खारिज कर दिया है, जिसमें सरेंडर करने के लिए समय मांगा गया था. कोर्ट की तरफ से कहा गया है कि शशिकला को सरेंडर करने के लिए और वक्त नहीं मिलेगा, फैसले में बदलाव की गुंजाइश नहीं है.

जेल जाने से पहले शशिकला ने नया दांव खेल दिया. शशिकला ने अपने भतीजे दिनाकरन को एआईएडीएमके का उप महासचिव बनाया है. वो उनकी गैरमौजूदगी में पार्टी की कमान संभालेंगे.

बता दें कि पालानीसामी शशिकला खेमे के नेता माने जाते हैं और चार बार विधायक भी रह चुके हैं. वे सलेम जिले से आते हैं. जयललिता सरकार में PWD मिनिस्टर रहे है. पालानीसामी ने मंगलवार शाम को राज्यपाल से मुलाकात की. उन्होंने सरकार बनाने का दावा पेश किया है. उन्होंने राज्यपाल को समर्थक विधायकों की लिस्ट सौंप दी है.

Share With:
Rate This Article