गुंटूर कलेक्टर का खुलासा, ‘दलित नहीं था रोहित वेमुला’

पिछले साल हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के हॉस्टल के एक कमरे में आत्महत्या करने वाले पीएचडी स्कॉलर रोहित वेमुला के केस में नया मोड़ आ गया है। जॉइंट कलेक्टर की अगुआई वाली गुंटूर डिस्ट्रिक्ट स्क्रीनिंग कमिटी ने वेमुला के परिजनों का एससी स्टेटस रद्द करने की बात कही है।

कलेक्टर द्वारा दाखिल की गई समीक्षा रिपोर्ट के मुताबिक, रोहित वेमुला दलित नहीं थे और उन्होंने फर्जी तरीके से अनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र बनवाया था। कलेक्टर ने रोहित और उनकी मां, दोनों का एससी सर्टिफिकेट रद्द करने का फैसला किया है।

वेमुला के परिवार को इसकी जानकारी दे दी गई है और पूछा गया है कि धोखाधड़ी से बनवाया गया फर्जी सर्टिफिकेट रद्द क्यों न किया जाए?

Share With:
Rate This Article