गवर्नर से मिले AIADMK विधायक दल के नेता पलानीस्वामी, सरकार बनाने का दावा पेश

चेन्नई

शशिकला के बाद AIADMK विधायक दल के नेता चुने गए ईके पलानीस्वामी 124 MLAs की लिस्ट के साथ गवर्नर सी. विद्यासागर राव से मिले. उन्होंने सरकार बनाने का दावा पेश किया. पन्नीरसेल्वम के सपोर्टर सांसद-विधायकों ने भी गवर्नर से मुलाकात की.

इसके पहले 21 साल पुराने बेहिसाबी प्रॉपर्टी के मामले में शशिकला को दोषी करार देते सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद AIADMK ने उनका सपोर्ट किया. पार्टी ने कहा कि शशिकला ने हमेशा ही जयललिता का बोझ हलका किया. इस बार भी ऐसा ही हुआ है. शशिकला ने सरेंडर करने से पहले पलानीस्वामी को पार्टी का अगला नेता बनाया. वहीं, पन्नीरसेल्वम समेत 20 नेताओं को पार्टी से भी बर्खास्त कर दिया.

शशिकला ने पन्नीरसेल्वम और उनके खेमे के 20 नेताओं (12 सांसद और 8 विधायकों) को बाहर का रास्ता दिखाया है. इनमें सी पोन्नयन, पीएच पंडियन, एनआर विश्वनाथन और आईपी मुनुसमी और मंत्री पंडियाराजन के नाम शामिल हैं.

वहीं, पन्नीरसेल्वम खेमे पर हमला करते हुए लोकसभा डिप्टी स्पीकर और पार्टी के वरिष्ठ नेता एम थंबीदुराई ने कहा कि पन्नीरसेल्वम सरकार नहीं बना सकते. पलानीस्वामी को नया लीडर चुना गया है. विधायकों का बहुमत हमारे साथ है.

बता दें कि पलानीस्वामी का जन्म 2 मार्च, 1954 में हुआ. वे कोंगु रीजन में सलेम जिले इदापडी इलाके से हैं. इदापडी सीट से वे 1989, 1991, 2011 और 2016 में विधायक चुने गए. जयललिता सरकार में मंत्री भी रहे. उन्हें मिनिस्टर फॉर हाईवेज एंड माइनर पोर्ट्स की जिम्मेदारी मिली थी. जब जयललिता को दिल का दौरा पड़ा था और वे जब हॉस्पिटल में एडमिट थीं, तब पन्नीरसेल्वम के अलावा पलानीस्वामी का नाम भी आया था। लेकिन बाद में पन्नीरसेल्वम को सीएम बनाया गया.

Share With:
Rate This Article