सिर्फ पांच फीसदी महिलाओं को खुद से पति चुनने का हक !

एक सर्वे के मुताबिक, भारत की सिर्फ 4.99 फीसदी महिलाएं पति को चुनने का फैसला खुद से कर पाती हैं. हालांकि, भारत की 65 फीसदी महिलाएं साक्षर हैं. यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड और नेशनल काउंसिल ऑफ अप्लाइड इकोनॉमिक्स रिसर्च की ओर से 2011-12 में किए गए इंडियन ह्यूमन डेवलपमेंट सर्वे में यह बात सामने आई है.

सर्वे में भारत के विभिन्न राज्यों की 15 से 81 साल की 34 हजार शहरी और ग्रामीण महिलाओं को शामिल किया गया था. 73 फीसदी महिलाओं ने यह भी बताया है कि उनके पैरेंट्स या रिश्तेदार खुद ही उनके पति का चुनाव करते हैं. उत्तरी भारत के मुकाबले नॉर्थ इस्ट और साउथ इंडिया की अधिक महिलाएं पति का खुद से चुनाव करती हैं.

मनिपुर में 96 फीसदी, मिजोरम में 88 फीसदी, मेघालय में 76 फीसदी, जबकि राजस्थान में 0.98 फीसदी और पंजाब में 1.14 फीसदी महिलाएं खुद अपने पति को चुनती हैं. 65 फीसदी महिलाओं ने बताया कि उन्होंने शादी के दिन ही पहली बार अपने पतियों को देखा.

किराना का सामान खरीदने के लिए भी चाहिए अनुमति
सर्वे के मुताबिक, 79.8 फीसदी महिलाओं को हेल्थ सेंटर जाने के लिए भी इजाजत की जरूरत होती है. किराना का सामान खरीदने जाने के लिए भी 58 फीसदी महिलाओं को अनुमति लेनी होती है.

Share With:
Rate This Article