खादी ने फैब इंडिया को भेजा नोटिस

खादी और ग्रामोद्योग आयोग ने फैबइंडिया को कानूनी नोटिस भेजा है। आयोग का कहना है कि फैबइंडिया अपने सूती के रेडीमेड परिधानों को खादी उत्पाद के रूप में बेच रहा है। आयोग के मुताबिक, इसके लिए कंपनी ने उससे स्वीकृति भी नहीं ली है।

नोटिस में आयोग ने फैबइंडिया को अपना पक्ष रखने के लिए 15 दिनों का वक्त दिया है। नोटिस में कहा गया है कि अगर कंपनी इस अवधि में अपना पक्ष नहीं रख पायी तो खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) खादी मार्क रेग्युलेशन के उल्लंघन के लिए आगे की कार्रवाई करेगा। नोटिस में कहा गया है कि फैबइंडिया द्वारा खादी उत्पाद के रूप में बेचे गए कपड़ों और इनकी कीमतों की गंभीरता से जांच करने के बाद पता चला कि फैबइंडिया ने इन कपड़ों को ‘फैबइंडिया कॉटन’ का लेबल लगा रखा है।

नोटिस में कहा गया है, ‘कपड़ों के प्राइस टैग पर खादी शब्द लिखा हुआ है। इससे खुद ही पता चलता है कि फैबइंडिया खादी प्रॉडक्ट्स नहीं बेच रहा, बल्कि बाद में हटाए जा सकने वाले प्राइस टैग पर खादी शब्द लिखकर ग्राहकों को गुमराह कर रहा है।’ नोटिस कहता है, ‘यह गैर-कानूनी काम है। दूसरे शब्दों में, यह अनुचित व्यापार व्यवहार का मामला है।’ यह नोटिस फैबइंडिया के सीईओ विनय सिंह के दफ्तर को भेजा गया है।

इकनॉमिक टाइम्स ने इस बारे में फैबइंडिया से संपर्क किया तो सीईओ विनय सिंह ने कहा, ‘हमें नोटिस मिला है और हमने इस पर अपनी प्रतिक्रिया भी दी है। हमने अधिकारियों के साथ एक मीटिंग का आग्रह किया है ताकि जो मुद्दे उठाए गए, उन पर बात हो सके और वो सुलझा लिए जाएं।’

Share With:
Rate This Article