तंबाकू का सेवन करना पड़ रहा है भारी, हिमाचल प्रदेश में बढ़े कैंसर के मरीज

शिमला

हिमाचल में वातावरण दूषित और लोगों द्वारा तंबाकू का सेवन करने से कैंसर के मरीजों की बढ़ोतरी हुई है और आज पूरे प्रदेश में कैंसर के मरीजों की संख्या 15 हजार से भी ऊपर चली गई है। अगर प्रदेश के कैंसर अस्पतालों की बात की जाए तो 50 से 60 प्रतिशत मरीज लंग कैंसर के भर्ती हो रहे हैं।  प्रदेश में लोग तंबाकू का भारी मात्रा में सेवन कर रहे हैं, ऐसे में लोग लंग कैंसर की बीमारी को खुला न्यौता दे रहे हैं। यहीं नहीं, प्रदेश में हो रहे दूषित वातावरण के कारण भी लोग कैंसर के अधिक शिकार हो रहे हैं, क्योंकि वातावरण दूषित होने से फल-सब्जियों आदि में कीड़ा लगना शुरू हो जाता है, जो कैंसर का एक मुख्य कारण है।

चिकित्सकों ने दिया यह तर्क
चिकित्सकों द्वारा तर्क दिया जा रहा है कि अगर लोगों को कैंसर की बीमारी से छुटकारा पाना है तो सबसे पहले तंबाकू का सेवन कम करना होगा। भारत को छोड़कर अन्य देशों की बात की जाए तो कैंसर की बीमारी पर काफी ज्यादा काबू पाया गया है। चिकित्सकों के अनुसार अंदाजा लगाया गया है कि पूरे भारत में 2030 तक कैंसर के मरीजों की संख्या 1 करोड़ से भी अधिक हो सकती है।

कई प्रकार का है कैंसर
कैंसर के कई प्रकार हैं या यूं भी कह सकते हैं कि कैंसर के 100 से भी अधिक रूप हैं। इनमें स्तन कैंसर, सर्वाइकल कैंसर, ब्रेन कैंसर, बोन कैंसर, ब्लैडर कैंसर, पैंक्रियाटिक कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, गर्भाश्य कैंसर, किडनी कैंसर, लंग कैंसर, त्वचा कैंसर, स्टमक कैंसर, थायराइड कैंसर, मुंह का कैंसर व गले का कैंसर आदि है। इसके अलावा भी कई प्रकार के कैंसर हैं।

क्या होता है कैंसर
शरीर में कोशिकाओं के समूह की अनियंत्रित वृद्धि कैंसर है। जब ये कोशिकाएं टिश्यू को प्रभावित करती हैं तो कैंसर शरीर के अन्य हिस्सों में फैल जाता है। कैंसर किसी भी उम्र में हो सकता है।

कैंसर के कारण
कैंसर कई तरह का होता है। हर कैंसर के होने के अलग-अलग कारण हैं लेकिन कुछ मुख्य कारक ऐसे भी हैं, जिनसे कैंसर होने का खतरा किसी को भी हो सकता है। इनमें वजन बढऩा या मोटापा अधिक शारीरिक सक्रियता न होना, एल्कोहल और नशीले पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन करना, कैंसर में पौष्टिक आहार न लेना और अपनी दिनचर्या में व्यायाम को शामिल न करना इत्यादि है। कैंसर आनुवांशिक भी हो सकता है। कई बार कैंसर से पीड़ित माता या पिता के जीन बच्चे में आ जाते हैं, जिससे बच्चे को भविष्य में कैंसर होने की आशंका बढ़ जाती है। किसी गंभीर बीमारी के कारण भी आपको कैंसर हो सकता है। यदि आप किसी गंभीर बीमारी के लिए दवाएं ले रहे हैं तो इन दवाओं के साइड इफैक्ट्स के कारण आप कैंसर के शिकार हो सकते हैं। कई बार उम्र के बढऩे के साथ भी शरीर में चुस्ती-फुर्ती नहीं रहती और उम्र के पड़ाव पर व्यक्ति बीमार पडऩे लगता है, ऐसे में कई बार कैंसर भी हो जाता है।

बचने के उपाय
-किसी भी व्यक्ति से शारीरिक संबंध बनाने से बचें, क्योंकि यह वायरस फैलने वाला होता है।
-ज्यादा से ज्यादा पत्तेदार सब्जियां, चना और फल खाने की कोशिश करें।
-जहां तक संभव हो इलैक्ट्रॉनिक चीजों का इस्तेमाल कम ही करें।
-शक्कर का सेवन कम से कम करें।
-ऑयल का कम प्रयोग करें।

Share With:
Rate This Article