अखिलेश यादव के करीबी पर रेल पीड़िता की हत्या का केस दर्ज

यूपी में सुलतानपुर सदर से एसपी प्रत्याशी और मौजूदा विधायक अरुण कुमार वर्मा मुश्किल में फंसते नजर आ रहे हैं. तीन साल पहले विधायक पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली युवती की हत्या के मामले में विधायक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है.

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बेहद करीबी माने जाने वाले अरुण कुमार वर्मा गैंगरेप पीड़िता की हत्या के बाद अब शक के घेरे में हैं. लिहाजा पुलिस ने सोमवार को विधायक अरुण वर्मा के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया है. दरअसल अरुण वर्मा और उसके दोस्तों पर तीन साल पहले गैंगरेप का आरोप लगाने वाली युवती शनिवार रात गांव में बने पंचायत भवन के पीछे संदिग्ध हालात में जख्मी मिली थी.

युवती को फौरन अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. मृतका के पिता राजेंद्र सिंह ने आरोप लगाया कि उन्होंने पुलिस प्रशासन से बेटी की जान को खतरा बताते हुए सुरक्षा देने की गुहार लगाई थी. लेकिन पुलिस ने उनकी मांग को अनसुना कर दिया था. बताते चलें कि कुछ दिनों पहले युवती के पिता ने इस मामले में आरोपी विधायक को तलब करने की अर्जी कोर्ट में दी थी, जिसकी सुनवाई 21 फरवरी को होनी है.

पुलिस ने गैंगरेप मामले में आरोपी विधायक अरूण वर्मा के खिलाफ आईपीसी की धारा 302, 201, 120-बी के तहत मुकदमा दर्ज किया है. गौरतलब है कि गैंगरेप पीड़िता का शव मिलने से सुलतानपुर में एक बार फिर राजनीति गरमा गई है. विपक्षी दल इस मामले में विधायक अरूण वर्मा पर जमकर निशाना साध रहे हैं. फिलहाल पुलिस सत्तारूढ़ दल से प्रत्याशी और मौजूदा विधायक पर आरोप लगने से फूंक-फूंक कर कदम रख रही है.

बताते चलें, चोरमा गांव निवासी राजेंद्र सिंह ने साल 2013 में विधायक अरूण वर्मा और उसके दोस्तों पर उनकी बेटी के साथ गैंगरेप करने का आरोप लगाया था. पीड़िता के पिता का आरोप था कि विधायक और उसके दोस्तों ने गोलाघाट स्थित एक गेस्ट हाउस में उनकी बेटी के साथ गैंगरेप किया था. पीड़िता ने इस मामले में विधायक और एक महिला सिपाही सहित आठ लोगों को घटना में शामिल बताया था.

Share With:
Rate This Article