अनुमान नहीं, नोटबंदी के सत्यापित आंकड़े ही जारी करेगा RBI: उर्जित पटेल

दिल्ली

भारतीय रिजर्व बैंक ने नोटबंदी के बाद जमा हुई राशि के खुलासे में देरी का संकेत देते हुए शनिवार को कहा कि इससे पहले उसके अच्छी तरह से सत्यापन की जरूरत है और इस काम को बेहद सावधानीपूर्वक किया जा रहा है.

वित्तमंत्री अरूण जेटली के साथ आरबीआई बोर्ड की बैठक के बाद गवर्नर उर्जित पटेल ने कहा, बैंक की हजारों शाखाएं हैं और 4,000 करेंसी चेस्ट हैं. इसलिए हमें सावधान रहने की जरूरत है कि अंतिम संख्या केवल अनुमान नहीं हो, बल्कि उसे पूरी तरह से सत्यापित करने के बाद ही बताया जाए.

यह पूछे जाने पर कि नोटबंदी के बाद कितने पुराने नोट बैंकिंग प्रणाली में वापस जमा किए गए. पटेल ने कहा, पुराने नोट जमा करने की खिड़की निचले स्तरों पर 31 मार्च और 30 जून तक खुली है. यह देखते हुए हमें सावधानीपूर्वक गणना करने की जरूरत है और अच्छी तरफ नोटों के सत्यापन और लेखा सत्यापन के बाद ही इसे जारी किया जाएगा.

उन्होंने कहा, जो भारतीय नागरिक विदेश में रह रहे हैं, वे 31 मार्च, 2017 तक इसे जमा कर सकते हैं, जबकि अनिवासी भारतीय को यह सुविधा 30 जून, 2017 तक दी गई है. आरबीआई ने पहले कहा था कि 10 दिसंबर, 2016 तक कुल 12.44 लाख करोड रूपये मूल्य के नोट जमा हुए हैं.

Share With:
Rate This Article