बिजनौर- वोटिंग से पहले युवक की हत्या, 8 पर FIR दर्ज

पश्चिमी यूपी के बिजनौर में युवक की हत्या केस में पुलिस ने आठ लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है. परिजनों की शिकायत के आधार पर सभी आठ लोगों को नामजद किया गया है. यूपी में पहले चरण के मतदान से कुछ घंटे पहले हुई इस वारदात से इलाके में राजनीतिक माहौल गरमा गया है. इलाके में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है.

सांप्रदायिक सियासत की साजिश?
पहले चरण के मतदान से ठीक पहले हुई इस वारदात के बाद सांप्रदायिक सियासत भी तेज हो गई है. दरअसल जिस युवक की गोली लगने से मौत हुई है वो जाट समुदाय से आता है और बिजनौर समेत पश्चिमी यूपी की ज्यादातर सीटों पर जाट वोटर निर्णायक भूमिका में है.

युवक की हत्या के बाद उसके शव को हाईवे पर रखकर जाम किया गया. इतना ही नहीं जाम लगाने वाले लोगों ने विशेष संप्रदाय के लोगों पर हत्या का आरोप लगाया. सूत्रों के मुताबिक जानकारी ये भी आ रही है कि भीड़ ने अफवाहें फैलाकर वारदात को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश की. ऐसे में इस बात की भी आशंका है कि राजनीतिक दल इस हत्या का राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश कर सकते हैं.

क्या है मामला?
दरअसल बिजनौर कोतवाली थाना क्षेत्र के नया गांव के रहने वाले विशाल शुक्रवार की रात करीब 8 बजे अपने पिता संजय के साथ खेत पर गए थे. आरोप है कि पहले से ही घात लगाए बैठे लोगों ने उन पर हमला कर दिया. इस हमले में 17 साल के विशाल को दो गोलियां लगीं, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई. जबकि उसके पिता संजय को चाकू से वार घायल कर दिया. संजय अस्पताल में भर्ती हैं.

सड़क पर उतरे लोग
जैसे ही गांववालों को विशाल की हत्या की सूचना मिली वो तुरंत खेत पहुंचे. इसके बाद उन्होंने शव को बिजनौर-नजीबाबाद मार्ग पर रखकर प्रदर्शन किया और जाम लगा दिया. देर रात गुस्साए लोग सड़क पर जमा रहे और आरोपियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की मांग करते रहे. इस वारदात के बाद पूरे इलाके में अफवाहों का बाजार गर्म है. हत्या की खबर आग की तरह फैल गई जिसके बाद इलाके में भारी संख्या में पुलिस की तैनाती कर दी गई है.

विधायक की अपील
बिजनौर (सदर) सीट से समाजवादी पार्टी की विधायक रुचि वीरा ने फेसबुक पर लोगों से अफवाहों पर ध्यान ना देने की अपील की है. उन्होंने अपनी पोस्ट में घटना को दुखद बताते हुए दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

Share With:
Rate This Article