KCCB यूनियन की हड़ताल खत्म, पढ़ें क्यों की थी हड़ताल

धर्मशाला

काफी समय से लंबित पड़ी मांगों को लेकर सत्याग्रह और सांकेतिक भूख हड़ताल पर बैठे  के.सी.सी.बी. यूनियन के कर्मचारियों द्वारा रखी गई लगभग सभी मांगों को बैंक प्रबंधन ने मान लिया है। यह जानकारी बैंक की एम.डी. राखिल काहलों ने दी। उन्होंने बताया कि यूनियन के पदाधिकारियों, बैंक प्रबंधन के अधिकारियों व चेयरमैन की अध्यक्षता में मीटिंग हुई जिसमें यूनियन द्वारा उठाई गई सभी मांगों पर गहन विचार-विर्मश किया गया। बैठक में बैंक प्रबंधन ने यूनियन की जायज मांगों को नियमों के अनुसार मानने की बात की है। बैंक प्रबंधन ने यूनियन के काफी समय से गर्म रुख को आड़े हाथों लेते हुए माफीनामा भी मांगा था।

एक मुद्दे पर नहीं बनी सहमति
बैंक की एम.डी. ने बताया कि यूनियन की सभी मांगों जिसमें यूनियन के कर्मचारियों का तबादला, एक्सग्रेसिया, पदोन्नति एवं वर्ष 2011-12 कर्मचारियों (अनुबंध)के वित्तीय लाभों को मानने पर बैंक प्रबंधन राजी हो गया है। उन्होंने बताया कि केवल एक मुद्दे पर सहमति नहीं बनी, जिसको नियमों के अनुसार अमलीजामा पहनाया जाएगा। नए स्थायी किए गए कर्मचारियों व पुराने अनुबंध कर्मचारियों जोकि नए कर्मचारियों के साथ स्थायी हो गए हैं, की वरिष्ठता का पेंच अभी भी बरकरार है।

90 प्रतिशत कर्मचारी ने दी थी कैजुअल लीव की अर्जी
कर्मचारी यूनियन के आह्वान  पर बुधवार को बैंक के 90 प्रतिशत कर्मचारी कैजुअल लीव की अर्जी दे चुके थे। इन सभी बातों को देखते हुए प्रबंधन ने बुधवार को ही कर्मचारी यूनियन के साथ बात करने के लिए बुला लिया गया। बुधवार देर रात लगभग 3 घंटे चली बैठक में यूनियन कर्मचारी, बैंक अध्यक्ष व बैंक प्रबंधन के पदाधिकारियों के बीच मुद्दों को लेकर चर्चा हुई, जिस पर कर्मचारियों का माफीनामा तथा जायज मांगों को मानने पर बैंक प्रबंधन द्वारा हामी भरी गई। वहीं कैजुअल लीव व गेट मीटिंग को यूनियन द्वारा स्थगित कर दिया गया, जिसके बाद वीरवार को सभी ब्रांचों में कार्य शांतिपूर्वक रहा।

यूनियन ने किया हड़ताल खत्म करने का ऐलान, मांगी माफी
यूनियन ने हड़ताल खत्म करने के ऐलान किया। यूनियन के प्रधान शरत रल्हन, महासचिव नवनीत शर्मा, उप प्रधान जोगिंद्र सिंह और सयुंक्त सचिव राहुल नेगी ने वीरवार को बाकायदा एक प्रैस बयान में कहा कि अगर पूर्व में किसी लिखित कथन से बैंक के अध्यक्ष, निदेशक मंडल और एम.डी. को ठेस पहुंची हो तो यूनियन इनसे दिल से माफी मांगती है और क्षमा मिलने की प्रार्थना करती है।

Share With:
Rate This Article