दिल्ली HC का आदेश: BSF जवान तेजबहादुर को उसकी पत्नी से मिलवाया जाए

दिल्ली

बीएसएफ जवान तेज बहादुर की पत्नी शर्मिला को शुक्रवार को हाई कोर्ट से बड़ी राहत मिली है. कोर्ट ने शर्मिला को दो दिन का वक्त तेज बहादुर से मिलने के लिए दिया है. कोर्ट ने गृह मंत्रालय और बीएसएफ को निर्देश दिया है कि शर्मिला को वहां ले जाया जाए जहां पर तेज बहादुर तैनात है. कोर्ट ने आदेश दिया है कि 2 दिन की इस मुलाकात के बाद तेज बहादुर की पत्नी कोर्ट को इस मुलाकात के बारे में बताएंगी.

सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार के वकील ने कोर्ट को बताया कि तेज बहादुर को किसी तरह की कोई सजा अभी नहीं दी गई है और न ही उसे अवैध रूप से हिरासत में रखा गया है. तेज बहादुर को 29 बटालियन से 88 बटालियन में ट्रासफंर कर दिया गया है और परिवार को इसकी पूरी जानकारी है. परिवार के लोग तेजबहादुर के साथ फोन पर संपर्क में हैं.

इस पर हाईकोर्ट ने सरकार के इस पक्ष पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि अगर परिवार को किसी तरह का डर नहीं है और वह तेज बहादुर से संपर्क में है तो भला परिवार को कोर्ट में आने की जरुरत क्यों पड़ती. परिवार को कुछ शंकाए हैं और उनको दूर करना जरूरी है, लिहाजा कोर्ट आपको निर्देश देता है कि तेज बहादुर की पत्नी को लेकर जाएं और उससे मिलवाए. 15 फरवरी को कोर्ट इस मामले की दोबारा सुनवाई करेगा.

खराब खाने की शिकायत करने वाले बीएसएफ जवान तेज बहादुर का परिवार गुरुवार को दिल्ली हाई कोर्ट पहुंचा था. तेज बहादुर की पत्नी का कहना है कि वह गायब है. घरवालों ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका लगाकर कोर्ट से तेज बहादुर को सामने लाने की गुहार लगाई है. हाइकोर्ट मामले की सुनवाई शुक्रवार को करेगा. सेना में खराब खाने की शिकायत करने वाले बीएसएफ जवान तेज बहादुर के सोशल मीडिया पर वीडियो के वायरल होने के बाद से ही तेज बहादुर के परिवार ने कई आरोप लगाए हैं.

खुद तेज बहादुर ने अपने विडियो में अपनी जान को खतरा बताया था. कोर्ट में दायर यचिका में परिवार वालों ने दावा किया है कि कई दिनों से तेज बहादुर से कोई संपर्क नहीं हुआ है. ऐसे में परिवार वालों ने दिल्ली हाई कोर्ट में यचिका लगाकर तेज बहादुर को समाने लाने की गुहार लगाई गई है.

Share With:
Rate This Article