पढ़ें, 303 रन बनाने वाले करुण नायर को क्यों नहीं मिली टेस्ट में जगह

हैदराबाद

टेस्ट क्रिकेट में शतक जमाने के बाद यह माना जाता है कि उस बल्लेबाज का आने वाले कुछ समय तक टीम का हिस्सा बने रहना तय है. लेकिन ऐसा नहीं है. अब तो शतक क्या, नाबाद ट्रिपल सेंचुरी लगाने के बावजूद किसी बल्लेबाज को अगले मैच में मौका मिले, इसकी गारंटी नहीं है. बात भारत के नवोदित बल्लेबाज करुण नायर की हो रही है.

करुण नायर की ट्रिपल सेंचुरी गई बेकार
ये वही 25 वर्षीय बल्लेबाज है, जिसने इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई टेस्ट में नाबाद 303 रन की पारी खेल धूम मचाई थी. और अब बांग्लादेश के खिलाफ अगले टेस्ट में उन्हें मौका देने को लेकर कप्तान विराट कोहली और कोच अनिल कुंबले असमंजस की स्थिति में थे. आखिरकार उन्हें टीम में जगह नहीं मिल पाई.

कोच अनिल कुंबले ने पहले ही दिए थे संकेत
कोच कुंबले ने संकेत दिए थे कि पिछले टेस्ट में तिहरा शतक जमाने वाले करुण नायर का नाम भारत के अंतिम-11 में तय नहीं है. कुंबले ने साफ कर दिया था कि अजिंक्य रहाणे को हम नहीं भूल सकते. रहाणे अंगुली की चोट की वजह से इंग्लैंड सीरीज के आखिरी दो टेस्ट में नहीं खेले थे. उनकी जगह करुण नायर को दी गई थी. पांच गेंदबाज खिलाने की स्थिति में इनमें से किसी एक को ही मौका दिया जा सकता है.

1930 में एंडी संधम तिहरे शतक के बाद फिर नहीं खेले
क्रिकेट इतिहास में 87 साल बाद ऐसा हुआ, जब तिहरा शतक जमाने वाला कोई बल्लेबाज अगले टेस्ट में नहीं खेला. इससे पहले 1930 में इंग्लैंड के एंडी संधम ने वेस्टइंडीज के खिलाफ 325 रनों की पारी खेली थी, जो टेस्ट क्रिकेट का पहला तिहरा शतक भी था. लेकिन वे अगले टेस्ट में तो क्या, फिर कभी नहीं खेले. हालांकि इसकी वजह कुछ और थी. वे 39 वर्ष के हो चुके थे.

Share With:
Rate This Article