तीन दिन के बच्चे के रोने से परेशान होकर वार्ड ब्वॉय ने तोड़ डाले उसके पैर

देहरादून

उत्तराखंड के रूड़की से एक दिल-दहला देने वाला वाक्या सामने आया है. रूड़की के एक निजी अस्तपाल का वार्ड ब्वॉय कैमरे में ऐसा अपराध करता कैद हुआ, जिसे किसी भी सभ्य समाज में कतई स्वीकारा नहीं जा सकता है. सीसीटीवी कैमरे में देखकर पता चला कि अस्पताल के वार्ड ब्वॉय ने एक तीन दिन के शिशु का पैर इसलिए तोड़ दिया क्योंकि वह रो रहा था.

25 जनवरी को पैदा हुए इस शिशु को अस्पताल के चाइल्ड केयर यूनिट में 28 जनवरी को भर्ती कराया गया था. बच्चे को सांस लेने में कुछ दिक्कत की शिकायत हो रही थी.

सीसीटीवी फुटेज से यह साफ हो रहा है कि अस्पताल का कर्मचारी उस कमरे में आराम कर रहा था जहां शिशु को निगरानी के लिए रखा गया था. जब शिशु रोने लगा तो अस्पताल का वार्ड बॉय उठकर उसके पास गया और बेरहमी से उसने उसके पैर को खींचा ताकि उसका डायपर बदला जा सके.

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि तेजी से रोते हुए बच्चे को देखने के बाद भी वार्ड ब्वॉय अपना काम आराम से करता रहा. मामला तब प्रकाश में आया जब बच्चे को देहरादून के अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों ने पाया कि उसके पैर में फ्रैक्टर है.

आरोपी अस्पताल कर्मी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है और पुलिस मामले की जांच कर रही है. शिशु के पिता का कहना है कि आरोपी ने पूरी रात बच्चे को टॉर्चर किया और बच्चे का पैर भी तोड़ दिया. पुलिस ने उस पर कार्रवाई का भरोसा दिया है.

Share With:
Rate This Article