…तो क्या 11 फरवरी के बाद जाट फिर करेंगे आंदोलन ?

प्रदेश के 19 जिलों में चल रहे जाटों के धरने के बीच जाट और खाप पंचायतों के दूसरे गुट ने भी अब सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। हवा सिंह सांगवान के नेतृत्व वाली जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने राज्य सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए चेतावनी दी है कि अगर जल्द से जल्द मांगों को नहीं माना गया तो वो भी आंदोलन में उतरेंगे।

उन्होंने कहा कि सरकार ने 11 फरवरी तक मृतकों के परिवारों को नौकरी देने का आश्वासन दिया था, लेकिन पांच परिवारों को डीसी रेट पर नौकरी दी गई है, जो उन्हें मंजूर नहीं है। उन्होंने कहा कि वो 26 फरवरी को मीटिंग करेंगे और आगे की रणनीति तैयार करेंगे। आपको बता दें कि पहले से चल रहे आंदोलन का नेतृत्व यशपाल मलिक कर रहे हैं।

Share With:
Rate This Article