आज हाईकोर्ट में जाट आरक्षण पर लगी अंतरिम रोक को लेकर होगी सुनवाई

चंडीगढ़

हरियाणा में जाटों समेत 6 जातियों को आरक्षण पर लगी अंतरिम रोक मामले में कल हाईकोर्ट में सुनवाई होगी। सुनवाई के बाद ही पता चलेगा कि हाईकोर्ट ने क्या फैसला किया है। आपको बता दें कि याचिकाकर्ता के अनुसार जाटों को आरक्षण मिलने के बाद प्रदेश में आरक्षण 50 फीसदी के पार पहुंच चुका है। इसके अलावा जाटों को जिस आधार पर आरक्षण मिला है वो वर्टिकल है जबकि इसका कुछ हिस्सा हॉरीजोंन्टल भी होना चाहिए था।

गौरतलब है कि हिंसक जाट आरक्षण आंदोलन के बाद हरियाणा सरकार ने विधानसभा के बजट सत्र में काननू पास करवाकर जाटों को ओबीसी कोटे का 10 फीसदी आरक्षण दिया था। कुछ दिन बाद ही इसे हाईकोर्ट में चुनौती दे दी गई थी। वहीं हरियाणा सरकार ने जाट आंदोलन के बाद आरक्षण की घोषणा कर दी थी, जिसमें जाटों सहित 6 जातियों को आरक्षण ओबीसी के तहत रिजर्वेशन देने का प्रावधान था। इसके खिलाफ मई माह में हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी तो हाईकोर्ट ने 21 जुलाई तक की अंतरिम रोक लगा दी थी। इसके बाद से लगातार ये मामला कोर्ट में विचाराधीन है।

50 प्रतिशत से अधिक आरक्षण को गलत करार देने की याचिकाकर्ता की दलील पर हरियाणा सरकार ने कोर्ट में सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर में उल्लेखित अति विशेष परिस्थितियों वाली टिप्पणी का हवाला दिया कि कुछ निर्धारित प्रक्रिया को पूरा कर आरक्षण को 50 प्रतिशत से ऊपर ले जा सकते हैं। केसी गुप्ता आयोग पर हरियाणा सरकार की ओर से कहा गया कि आयोग की रिपोर्ट को सिरे से खारिज नहीं किया गया है। सरकार की तरफ से कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के मुताबिक ही डाटा एकत्रित करते हुए आरक्षण का प्रावधान किया गया है।

Share With:
Rate This Article