10 हजार फीट ऊपर ट्रेन चलाने की तैयारी में भारतीय रेलवे, पढ़ें कितना आएगा खर्च

भारतीय रेलवे एक नया मुकाम हासिल करने की ओर अग्रसर है। इसके लिए रेलवे ने तैयारियां शुरू कर भी कर दी हैं। एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के मुताबिक पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे अरुणाचल प्रदेश के तवांग को देश के अन्य इलाकों से जोड़ने के लिए तीन ट्रैक तैयार करने जा रही है। रेलवे इसके लिए जल्द ही सर्वे शुरू करेगी।

आपको बता दें कि अरुणाचल प्रदेश का तवांग टाउन चीन की सीमा से सटा हुआ है और इसकी ऊंचाई 10000 फीट है। इस प्रोजेक्ट के लिए सर्वे अगले साल से शुरू होगा।  टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे महाप्रबंधक (निर्माण) एच के जग्गी ने कहा है कि, रेलवे इस परियोजना के जरिए पूरे अरुणाचल प्रदेश को ही रेल नेटवर्क से जोड़ने की तैयारी में है।

खबर के मुताबिक तीन स्ट्रैटजिक लाइन बिछाई जाएंगी। जिसके अंतर्गत डूमडूमा से सिमालगुड़ी, नामसाइ औक चौउखाम होते हुए वाकरो (96 किमी), डांगरी से रोइंग (60 किमी), लेखापानी से नामपोंग (75 किमी) लाइनों का सर्वे किया जाएगा।

70 हजार करोड़ रुपए होगी लागत!
परियोजना की अनुमानित लागत 50,000 करोड़ रुपये से 70,000 करोड़ रुपये होगी। जग्गी के मुताबिक भालुकपंग से तवांग के लिए लाइन बिछाना सबसे चुनौती पूर्ण काम होगा, क्योंकि यह लाइन जहां से गुजरेगी वहां 500 फीट से लेकर 9000 फीट तक की ऊंचाई होगी।

आपको बता दें कि 2014 में राजधानी ईटानगर से 10 किलो मीटर दूर नाहरलगुन पहला शहर था जिसे रेलवे से जोड़ा गया। केंद्रीय रेल राज्य मंत्री राजन गोहेन ने शनिवार को कहा, ‘रक्षा मंत्रालय के साथ मिलकर हम बॉर्डर तक विस्तार की तैयार कर रहे हैं। तीन नई रेलवे लाइनों के लिए हमने सर्वे करने शुरू कर दिए हैं।’

Share With:
Rate This Article