ट्रंप को मिला साथ, UAE के विदेशमंत्री ने किया ‘मुस्लिम बैन’ का बचाव

दुबई

संयुक्त अरब अमीरात के वरिष्ठ राजनयिक और गल्फ फेडरेशन के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान ने बुधवार को डॉनल्ड ट्रंप द्वारा 7 मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों पर अमेरिका में प्रवेश को लेकर लगाए गए प्रतिबंध का समर्थन किया है.

उन्होंने कहा कि अमेरिका को यह फैसला लेने का पूरा हक है. उन्होंने ट्रंप प्रशासन द्वारा लगाए गए इस प्रतिबंध को अमेरिका का ‘स्वायत्त निर्णय’ बताया. खाड़ी अरब क्षेत्र के देशों में ट्रंप के फैसले को मिला यह पहला समर्थन है.

अल नाहयान का बयान ट्रंप प्रशासन की ही लाइन पर इस बैन के मुस्लिम विरोधी होने की बात से इनकार करता है. उन्होंने अमेरिकी प्रशासन पर भरोसा जताते हुए कहा कि यह प्रतिबंध किसी धर्म के खिलाफ नहीं है. अल नाहयान ने कहा कि दुनिया के ज्यादातर ऐसे देश जहां की आबादी में मुस्लिम बहुसंख्यक हैं, उनपर यह प्रतिबंध नहीं लगाया गया है.

अल नाहयान ने कहा, ‘यह एक अस्थायी प्रतिबंध है और तीन महीने बाद इसकी फिर से समीक्षा की जाएगी. ऐसे में यह जरूरी है कि प्रतिबंध के बारे में बात करते हुए हम इस पहलू को ध्यान में रखें.’ अल नाहयान ने अबू धाबी में रूस के विदेश मंत्री के साथ हुई अपनी मुलाकात के बाद यह बात कही.

नाहयान ने कहा, ‘इस प्रतिबंधित सूची में कुछ देश ऐसे हैं जहां संस्थागत परेशानियां हैं. इन देशों को चाहिए कि वे अपने मुद्दे और इन परेशानियों को सुलझाने की कोशिश करें.

अमेरिका के साथ इस मुद्दे को सुलझाने से पहले उन्हें इन परिस्थितियों में सुधार लाने की कोशिश करनी चाहिए.’ मालूम हो कि संयुक्त अरब अमीरात (UAE) अरब देशों में अमेरिका के सबसे करीबी सहयोगियों में से एक है.

Share With:
Rate This Article