हिमाचल में ऑनलाइन शॉपिंग पर अब देना होगा टैक्स

शिमला

हिमाचल में ऑनलाइन शॉपिंग करने वालो को अब जेब ज्यादा ढीली करनी पड़ेगी. सरकार ने ऑनलाइन शॉपिंग पर पांच फीसद टैक्स लगा दिया है. टैक्स वसूली प्रदेश के सभी बैरियरो पर मध्य रात्रि से शुरू कर दी गई है.

आबकारी एवं कलाधान विभाग के आकंलन के अनुसार प्रदेश में लोग 300 करोड़ रुपये से अधिक की ऑनलाइन शॉपिंग करते है. ऑनलाइन शॉपिंग पर पांच प्रतिशत प्रवेश शुल्क लगने पर सरकार को 30 करोड़ रुपये प्राप्त होगे. मध्य रात्रि से प्रदेश में ऑनलाइन शॉपिंग के तहत आने वाली वस्तुओं पर शुल्क लग जाएगा.

प्रदेश के सभी बैरियरो पर शुल्क वसूला जाएगा. ऑनलाइन शॉपिंग के तहत मोबाइल, कपड़े, जूते, घडि़यां, फर्नीचर सहित 24 से अधिक वस्तुएं खरीदी जाती है. ऑनलाइन शॉपिंग का पूरा सामान कूरियर कंपनियों के सहारे पहुंचता है.

आबकारी एवं कराधान विभाग की ओर से ऑनलाइन शॉपिंग पर प्रवेश शुल्क लगाने के संबंध में अधिसूचना जारी कर दी है. इसके तहत मंगलवार मध्य रात्रि से ही पांच फीसद की दर से प्रवेश शुल्क वसूला जाएगा. शुल्क की वसूली बैरियरो पर तैनात आबकारी एवं कराधान विभाग के कर्मचारी करेंगे.

अगर सामान भेजने वाली कंपनियो ने वैट का भुगतान किया है तो ऑनलाइन शॉपिंग का सामान पहुंचाने वाली कूरियर कंपनियों को प्रवेश शुल्क नहीं देना पड़ेगा, परंतु वैट अदा न करने की सूरत में कूरियर कंपनियों से प्रवेश शुल्क वसूला जाएगा.

ऑनलाइन शॉपिंग के बढ़ते कारोबार ने शिमला सहित प्रदेश के दूसरे जिलों के दुकानदारों की कमर तोड़कर रख दी है. व्यवसायियों ने इस मामले को सरकार से उठाया था. प्रदेश के बाजारो के मुकाबले ऑनलाइन शॉपिंग सस्ती होती है, जिसका सीधा असर राजस्व व प्रदेश में कारोबारियों पर पड़ने लगा.

परिणामस्वरूप आबकारी एवं कराधान विभाग ने ऑनलाइन शॉपिंग पर प्रवेश शुल्क लगाने का फैसला लिया था. इसे मंत्रिमंडल की मंजूरी भी मिली. अब सरकार ने मंगलवार को इसे अधिसूचित कर दिया है.

Share With:
Rate This Article