बिहार में इस बार इंटर परीक्षा के दौरान परिंदा भी पर नहीं मार पाएगा !

मैट्रिक इंटर परीक्षा के दौरान शिक्षक भी नहीं ले जा पाएंगे मोबाइल, खिड़की के पास नहीं होंगे डेस्क
पटना. फरवरी-मार्च महीने में आयोजित इंटर व मैट्रिक की वार्षिक परीक्षा 2017 में विशेष सख्ती बरतने के लिए बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर ने सभी जिलों के डीएम एसपी को पत्र लिखा है। परीक्षा केन्द्रों पर स्वच्छ एवं कदाचार मुक्त परीक्षा संचालन हेतु समुचित विधि व्यवस्था, परीक्षा संचालन तथा गोपनीयता बनाये रखने के संबंध में बिहार के सभी जिलों के जिला पदाधिकारी-सह-मुख्य जिला परीक्षा नियंत्रक, सभी जिलों के वरीय पुलिस अधीक्षक,पुलिस अधीक्षक तथा सभी जिला शिक्षा पदाधिकारी को निर्देश दिए गए हैं।

परीक्षा केंद्र पर परीक्षार्थी के अलावा शिक्षकों के मोबाइल ले जाने पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसके अलावा केंद्राधीक्षक के सहयोग में जितने भी शिक्षक रहेंगे वे भी केंद्र के अंदर मोबाइल नहीं ले जा पाएंगे। साथ ही शिक्षक अपने निर्धारित स्थान से हटकर परीक्षा-कक्ष में या अन्यत्र भ्रमण नहीं करेंगे।
बेंच डेस्क खिड़की दीवारों से सटकर नहीं लगेंगे

बोर्ड अध्यक्ष ने सभी अधिकारियों को कहा है कि परीक्षार्थियों के डेस्क-बेंच, परीक्षा कक्ष की दीवारों से बिलकुल सटाकर नहीं लगाये जाएं। इससे निरीक्षण के दौरान असुविधा होती है। वहीं इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा, 2017 (व्यावसायिक पाठ्यक्रम सहित) से प्रायः सभी विषयों के विषय कोड के अल्फाबेट वैल्यू बदल दिये गये हैं। परीक्षार्थी द्वारा भी नये विषय कोड अल्फाबेट वैल्यू के अनुसार ही अपनी उत्तरपुस्तिका पर विषय कोड अंकित किया जायेगा, वीक्षकों के माध्यम से ऐसा निर्देश सभी परीक्षार्थियों को दिया जाए।

केंद्र के अंदर न हो चिट पुर्जा
सभी केन्द्राधीक्षक को कहा गया है कि वे परीक्षा केन्द्र परिसर की सफाई प्रत्येक दिन,पाली में परीक्षा शुरू होने के पूर्व सुनिश्चित कराएंगे जिससे कि किसी तरह का चिट-पुर्जा आदि परिसर में न रहे । इसके अतिरिक्त, यह भी सुनिश्चित करेंगे कि परीक्षा कक्षों के श्यामपट्ट पर परीक्षा विषयों के बारे में कुछ भी नहीं लिखा रहे ।

सभी केंद्रों पर सीसीटीवी
सभी परीक्षा केन्द्रों पर आवश्यकतानुसार सीसीटीवी लगाया जाएगा तथा परीक्षा संचालन से संबंधित गतिविधियों की विडियोग्राफी भी कराई जाएगी। इसके अलावा जिला शिक्षा पदाधिकारी को कहा गया है कि विभिन्न परीक्षा केन्द्रों पर प्रतिनियुक्त होनेवाले वीक्षकों की सूची केन्द्राधीक्षक से प्राप्त कर पूर्व में ही अनुमोदित कर दें एवं केन्द्रवार वीक्षकों की सूची की एक प्रति परीक्षा समिति को भेज दें । किसी भी परिस्थिति में गैर शिक्षक एवं अन्य किसी कर्मचारी को वीक्षण कार्य में नहीं लगाया जाएगा।
बढ़िया रिकार्ड वाले मान्यता प्राप्त अंगीभूत महाविद्यालय, विद्यालयों के स्थानीय शिक्षकों को ही वीक्षकों के रूप में नियुक्त किया जाय । किसी भी स्थिति में दूरदराज के शिक्षकों को वीक्षक के रूप में नियुक्त नहीं किया जाय। शिक्षकेतर कर्मचारी (यथा पानी पिलाने आदि) के मामले में अगल-बगल के महाविद्यालयों, विद्यालयों से ही शिक्षकेतर कर्मचारियों को नियुक्त किया जाय । किसी भी स्थिति में बाहरी मजदूरों अथवा बाहरी व्यक्ति को नियुक्त नहीं किया जाय, क्योंकि उनके जरिये परीक्षा की पवित्रता प्रभावित हो सकती है ।

मुख्य निर्देश
-परीक्षार्थियों के भविष्य के हित में यह परमावश्यक है कि परीक्षा स्वच्छ वातावरण में कदाचारमुक्त सम्पन्न हो। ऐसी स्थिति में परीक्षा की पवित्रता बनाये रखने की जिम्मेवारी जिला प्रशासन की है।
– जिला पदाधिकारी परीक्षा केन्द्र पर प्रतिनियुक्त दण्डाधिकारी को यह भी निर्देश देंगे कि वह केवल परीक्षार्थियों को ही परीक्षा केन्द्र के मुख्य द्वार पर उनके प्रवेश-पत्र को देखकर अंदर जाने देंगे। किसी भी स्थिति में परीक्षार्थियों के अतिरिक्त कोई भी अनधिकृत व्यक्ति परीक्षा केन्द्र में प्रवेश न करें।
– यदि किसी केन्द्र पर कदाचार अथवा किसी अन्य कारण से पूरी पाली की परीक्षा रद्द हो जाती है, तो ऐसी स्थिति में, जिला पदाधिकारी अपने स्तर से जांचोपरांत दायित्व निर्धारित करेंगे कि किस स्तर से लापरवाही बरती गयीं, जिसके कारण परीक्षा को रद्द करना आवश्यक हो गया ।
– अधिकारियों की बैठक बुलाकर स्टेटिक, गश्ती दल, उड़नदस्ता दलों की प्रतिनियुक्ति आवश्यकतानुसार करेंगे । चार-चार परीक्षा केन्द्रों पर एक-एक गश्ती दल दण्डाधिकारी की प्रतिनियुक्त सशस्त्र-बल के साथ की जाय ।
– केन्द्राधीक्षक यह सुनिश्चित करेंगे कि कर्तव्य पर प्रतिनियुक्त शिक्षक एवं अन्य कर्मचारी अपने साथ परीक्षा कार्य से संबंधित वैध कागजात के अतिरिक्त कोई अन्य कागजात परीक्षा केन्द्र पर नहीं ले जायेंगे, और मोबाइल का उपयोग भी वर्जित रखेंगे।
– यदि किसी छात्र का प्रवेश पत्र गुम हो गया हो, या भूल से घर पर छूट गया हो, तो ऐसी स्थिति में उपस्थिति पत्रक में स्कैन्ड फोटो से उसे पहचान कर और रौल शीट से सत्यापित कर परीक्षा में बैठने की औपबंधिक अनुमति दी जाय।
– इंटर की परीक्षा 14 फरवरी, 2017 से 25 फरवरी 2017 के बीच किया जा रहा है। मैट्रिक की परीक्षा 1 मार्च 2017 से 08 मार्च 2017 के बीच आयोजित की जायेगी ।

Share With:
Rate This Article