नोटबंदी के दौरान 18 लाख खातों में जमा हुई रकम टैक्स डिटेल से मेल नहीं खाती

नोटबंदी के बाद 18 लाख खाते ऐसे पाए गए हैं, जिनमें जमा की गई रकम खाताधारक के टैक्स प्रोफाइल से मेल नहीं खाती। राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने मंगलवार को इस बात की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जिन लोगों की टैक्स डिटेल जमा राशि से मेल नहीं खाती है, उन्हें आयकर विभाग की ओर से ई-मेल और एसएमएस भेजकर पूछताछ की जाएगी।

राजस्व सचिव ने कहा कि यदि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की ओर से भेजे गए ईमेल और एसएमएस का जवाब नहीं मिलता है तो संबंधित लोगों को नोटिस भेजे जाएंगे। यदि ऐसे खाताधारक संतोषजनक जवाब नहीं दे सके तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 8 नवंबर के बाद 500 और 1000 रुपये के नोटों को अमान्य घोषित किए जाने के बाद केंद्र सरकार ने 30 दिसंबर तक इन नोटों को बैंक में जमा कराने का मौका दिया था।

सरकार को आशंका है कि तमाम लोगों ने अपनी अघोषित आय अपने एंप्लॉयीज या फिर दलालों के माध्यम से जनधन खातों में जमा कराई है। इन अकाउंट्स को केंद्र सरकार की जनधन योजना के तहत जीरो बैलेंस पर खोला गया था। आयकर विभाग सेविंग अकाउंट में 2.5 लाख और चालू खातों में 10 लाख से अधिक जमा कराने वालों की जांच कर रहा है। इसके अलावा 30 लाख से अधिक की अचल संपत्ति खरीदने वालों पर भी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की नजर है।

Share With:
Rate This Article