ड्राइवर से मारपीट का मामला, पुलिस नहीं दर्ज कर रही मंत्री के खिलाफ FIR

हिमाचल के कांगड़ा जिले के इंदौरा के गांव चलोह में वन मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी पर अपने अंगरक्षकों के साथ मिलकर बस ड्राइवर से मारपीट का आरोप लगा है। लोगों का कहना है कि बीते शुक्रवार दोपहर करीब तीन बजे स्कूल बस लेकर जा रहे ड्राइवर रूप लाल से मंत्री की गाड़ी को पास न देने को लेकर बहस हो गई।

इस दौरान वन मंत्री ने अपने अंगरक्षकों के साथ कथित तौर पर बस ड्राइवर से न केवल मारपीट की बल्कि गंगथ पुलिस को बुलवाकर राजीनामा लिखवा लिया और बस का चालान भी कटवा दिया। आरोप है कि घटना के तीन दिन बाद भी पुलिस ने शिकायत तक दर्ज नहीं की, जिससे गुस्साए ग्रामीणों ने जमकर नारेबाजी की।

वन मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी ने कहा कि बस ड्राइवर तेज रफ्तार में था। उनकी गाड़ी के ड्राइवर ने किसी तरह स्कूल बस के साथ टक्कर होने से बचाई। लिहाजा, उन्होंने गंगथ पुलिस को मौके पर बुलाकर बस ड्राइवर पर नियमानुसार कार्रवाई करने को कहा। मारपीट के आरोप सरासर झूठे हैं।

मैंने ऐसा कुछ भी नहीं किया है। जवाली के कार्यवाहक डीएसपी धर्म चंद वर्मा ने कहा कि उन्हें इस घटना की जानकारी मीडिया से ही मिली है। अब इस घटना की जांच के आदेश संबंधित पुलिस चौकी को दिए हैं। इस मामले में जांच के बाद ही उचित कार्रवाई होगी।
एफआईआर दर्ज न की तो आज सीएम को भेजेंगे ज्ञापन

चलोह के उपप्रधान केशव दास, पूर्व प्रधान ओम प्रकाश, पूर्व प्रधान आशा देवी, पूर्व बीडीसी मेंबर चमन लाल, चंपा देवी, मसो देवी, किशन दत्त, नीलम देवी, तिलक राज, हरदीश कुमार, कुलदीप चंद, त्रिशला कुमारी, राज कुमारी, देव राज, रंजू देवी, राजिंदर कुमार, पंकज, संतोष कुमार, रशपाल, शारदा देवी, सुभाष चंद, लक्की व सुमन देवी सहित अन्य लोगों का आरोप है कि पीड़ित चालक ने बीते

शुक्रवार सायं गंगथ पुलिस चौकी में मंत्री के खिलाफ शिकायत पत्र दिया, लेकिन तीन दिन बाद भी गंगथ चौकी में मामला दर्ज नहीं किया गया। कहा कि अगर एफआईआर दर्ज न की तो मंगलवार को एसडीएम नूरपुर को ज्ञापन सौंपकर मुख्यमंत्री से उचित कार्रवाई की मांग की जाएगी।

Share With:
Rate This Article