जानिए, अरविंद केजरीवाल ने EC को क्यों लिखी चिट्ठी

आम आदमी पार्टी के संयोजक और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने चुनाव आयोग को नसीहत दी है कि आयोग उन्हें अपना ब्रांड एंबेसडर बना ले, इसके बाद सभी राजनीतिक पार्टियां चुनावों में पैसा बांटना बंद कर देंगी।

आयोग की चुनावों में पैसे बांटने की 70 साल पुरानी मुहिम को वह दो साल में कामयाब कर सकते हैं। उन्होंने चुनाव आयोग के नोटिस के जवाब में यह बातें लिखी हैं। इस बारे में केजरीवाल ने सोमवार को एक चिट्ठी आयोग को भेजी है।

अरविंद केजरीवाल ने वोट के बदले रिश्वत लेने के लिए मतदाताओं को प्रोत्साहित करने के आरोप पर चुनाव आयोग के नोटिस का जवाब दिया है।

केजरीवाल ने लिखा है कि आयोग पिछले 70 सालों से चुनावों में पैसे बांटने को रोकने की कोशिश कर रहा है, लेकिन यह नहीं रुका है। जिन पार्टियों के पास पैसा है, वह खुलकर बांटती हैं। चुनाव आयोग कुछ नहीं कर पाता। उदाहरण के तौर पर उन्होंने दिल्ली चुनाव का जिक्र किया.

अरविंद केजरीवाल ने आयोग को नसीहत दी है कि अगर आयोग उनके बयान को अपना ले और चुनावों में इसका प्रचार करे तो पार्टियां पैसा बांटना बंद कर देंगी। आयोग को उन्हें अपना ब्रांड एंबेसडर बना लेना चाहिए।

उन्होंने दावा किया है कि इसके बाद दो साल में सभी पार्टियां पैसा बांटना बंद कर देंगी। उदाहरण के तौर पर उन्होंने दिल्ली चुनाव का जिक्र किया है। जिसमें उनके अनुसार, लोगों ने कांग्रेस और भाजपा से पैसे लिए और वोट आम आदमी पार्टी को दिया। अगले चुनाव में दोनों पार्टियां पैसा नहीं बांटेगी।

आखिर में केजरीवाल ने आयोग से गुजारिश की है कि वह इस मसले में दोबारा विचार करे और उन्हें इस तरह का बयान देने से मना न करे। केजरीवाल ने मसले को सार्वजनिक महत्व का बताते हुए अपने पत्र को मीडिया में जारी भी कर दिया है।

Share With:
Rate This Article