सरकार ने कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास के लिए की तलाशी 100 एकड़ जमीन

दिल्ली/जम्मू

महबूबा मुफ्ती सरकार ने कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास के लिए घाटी में आठ जगहों पर 100 एकड़ जमीन की पहचान की है. 90 के दशक में आतंकवाद के पैर पसारने के बाद ये कश्मीरी पंडित राज्य से अन्य जगहों पर पलायन कर गए थे.

केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि इन कश्मीरी पंडितों को घाटी के सभी 10 जिलों में फिर से बसाए जाने की संभावना है. योजना है कि विस्थापित कश्मीरी पंडित परिवारों के युवा सदस्यों को घाटी में नौकरियां भी दी जाएंगी. आधिकारिक आंकड़ो के मुताबिक, राज्य से पलायन कर चुके 62,000 कश्मीरी पंडित परिवार सरकार के पास पंजीकृत हैं, जिसमें से 40,000 जम्मू में पंजीकृत हैं, 20,000 राष्ट्रीय राजधानी में और बाकी 2,000 देश के अन्य हिस्सों में हैं.

बता दें कि 2014 में सत्ता संभालने के बाद एनडीए सरकार ने 19 जनवरी, 1990 से घाटी से पलायन कर गए कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास के लिए 500 करोड़ रुपये का प्रावधान किया था. इनके पुनर्वास के मुद्दे को उठाते हुए केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने तत्कालीन मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला को लेटर लिखकर जमीन की पहचान करने को कहा था.

Share With:
Rate This Article