माल्या को कर्ज देने के मामले में CBI की बड़ी कार्रवाई, IDBI के पूर्व चेयरमैन समेत 9 गिरफ्तार

बेंगलूरु

CBI ने विजय माल्या केस में बड़ी कार्रवाई करते हुए IDBI बैंक और माल्या की बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस के कई अधिकारियों को गिरफ्तार किया है, गिरफ्तार किए गए लोगों में IDBI बैंक के पूर्व चेयरमैन योगेश अग्रवाल और चार पूर्व अधिकारियों, बंद हो चुकी कंपनी किंगफिशर एयरलाइंस के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी ए. रघुनाथन और एयरलाइंस के ही तीन पूर्व कर्मचारी शामिल हैं.

CBI के अधिकारियों ने माल्या के घर समेत 11 जगहों पर छापा मारा. बेंगलूरु में मौजूद यूबी टावर की तीन मंजिलों सहित योगेश अग्रवाल और ए रघुनाथन के घर पर भी छापा मारा.

विजय माल्या पर किंगफिशर मामले में बैंकों का 6,203 करोड़ रुपये का बकाया है. जिसका भुगतान किए बगैर दो मार्च 2016 को देश छोड़कर चले जाने का आरोप है. प्रवर्तन निदेशालय की अपील पर मुंबई की एक कोर्ट उन्हें भगोड़ा अपराधी घोषित कर चुकी है. फिलहाल माल्या लंदन में होने की खबर है.

माल्या देश छोड़कर चले तो गए हैं, लेकिन उनकी मुश्किल और ज्यादा बढ़ने वाली हैं. क्योंकि 19 जनवरी को ही ऋण वसूली न्यायाधिकरण यानि डीआरटी ने विजय माल्या और उनकी कंपनियों से ये रकम 11.5 फीसदी के सालाना ब्याज दर से वसूलने की प्रक्रिया शुरु करने का आदेश दिया है.

विजय माल्या देश के बड़े कारोबारी रहे हैं. वो राज्यसभा सांसद रह चुके हैं. रेसिंग टीम फोर्स इंडिया, फुटबॉल क्लब मोहन बागान और ईस्ट बंगाल कल्ब, किंगफिशर एयरलाइंस और शराब बनाने वाली कंपनी यूनाइटेड ब्रेवरीज के मालिक हैं. शराब का बिजनेस पिता विट्ठल माल्या से विरासत में मिला था.

Share With:
Rate This Article