भारत में ट्रेनों की रफ्तार होगी दोगुना, पढ़ें कौन करेगा मदद

रुस रेलवेज इंडियन रेलवेज को ट्रेनों की रफ्तार बढ़ाने में मदद कर रहा है। एक न्यूज एजेंसी के रिपोर्टर के मुताबिक, रसियन रेलवेज भारत में ट्रेनों की स्पीड बढ़ाकर 200 कि.मी. प्रति घंटा करने में सहायता कर रहा है। अभी वह नागपुर और सिकादराबाद के बीच 575 कि.मी. लंबी रेल लाइन पर काम कर रहा है और पिछले सप्ताह उसने प्राथमिक रिपोर्ट भी सौंप दी है। गौरतलब है कि अभी देश की सबसे तेज ट्रेन गतिमान एक्सप्रेस की अधिकतम रफ्तार 160 कि.मी. प्रति घंटा है।

रूसी रेलवे ने अपेक्षित रफ्तार हासिल करने के लिए इस रिपोर्ट में कुछ टेक्निकल और टेक्नलॉजिकल उपायों के सुझाव दिए। चूंकि भारत में ट्रेन कोचें ऐसी हैं ही नहीं कि उनकी रफ्तार बढ़ाकर 200 कि.मी. प्रति घंटे तक की जा सके। इसलिए, बाकी उपायों के साथ नई तरह की कोचों की भी जरूरत पड़ेगी। रिपोर्ट में नागपुर-सिकंदराबाद के बीच कई ‘बड़े पुलों पर सीमित रफ्तार में ट्रेन की आवाजाही’ की बाध्यता पर चिंता जाहिर की गई। इसी संदर्भ में रसियन रेलवेज ने ऐसे बड़े-बड़े ढांचों के सर्वे का सुझाव दिया ताकि यह पता चल सके कि किन-किन ढांचों को दुबारा बनाने की जरूरत है और किन्हें रिपेयर करने से काम चल जाएगा।

Share With:
Rate This Article