तमिलनाडु: प्रदर्शन के बीच मदुरै में जल्लीकट्टू रद्द, वापस लौटे सीएम पन्नीरसेल्वम

चेन्नई

तमिलनाडु मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम मदुरै के पास अलंगनल्लूर में हो रहे जल्लीकट्टू कार्यक्रम के उद्घाटन में नहीं गए, क्योंकि वहां प्रदर्शनकारियों ने मामले के स्थाई हल को लेकर मांग तेज़ कर दी है.

बता दें कि पन्नीरसेल्वम मदुरै पहुंच गए थे, लेकिन उन्हें चेन्नई लौटना पड़ा. इससे पहले तमिलनाडु सरकार ने जल्लीकट्टू के राज्य में आयोजन को लेकर अध्यादेश जारी कर दिया था. वहीं जल्लीकट्टू को मंजूरी देने वाले अपने अध्यादेश पर मंडराते संकट को भांपते हुए तमिलनाडु सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में केविएट दायर की है.

बता दें कि अलंगनल्लूर के निवासियों ने जल्लीकट्टू मामले के स्थायी समाधान की मांग करते हुए तैयारियों में व्यवधान डाला और उन सड़कों को ब्लॉक कर दिया जहां से सांड बाहर निकलते हैं. इस वजह से सभी गाड़ियां और एंबुलेंस फंसे हुए हैं. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि उन्हें लगता है कि यह अध्यादेश “तत्कालीन राहत” है और सुप्रीम कोर्ट इसे रद्द कर सकता है.

उधर, तमिलनाडु सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में विरोध पत्र भी दायर कर दिया है, यानि अगर जल्लीकट्टू के अध्यादेश को किसी ने अदालत में चुनौती दी तो सुप्रीम कोर्ट को आदेश सुनाने से पहले राज्य सरकार का पक्ष भी सुनना होगा. राज्य सरकार को शक है कि पशु अधिकार कार्यकर्ता इस मामले में सुप्रीम कोर्ट जा सकते हैं, इसलिए यह विरोध पत्र दर्ज करवाया गया है.

उल्‍लेखनीय है कि केंद्र सरकार द्वारा जल्लीकट्टू के आयोजन को लेकर तमिलनाडु सरकार के अध्यादेश को मंजूरी देने के एक दिन बाद प्रदेश सरकार ने भी शनिवार को अध्यादेश को मंजूरी दे दी थी.

Share With:
Rate This Article