हमने धर्मशाला के महत्व को समझते हुए इसे अपग्रेड किया: वीरभद्र सिंह

धर्मशाला

मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा है कि पहले धर्मशाला में मात्र डीसी, एसपी और सीएमओ के कार्यालय थे, लेकिन अब धर्मशाला को दूसरी राजधानी बना दिया है. उन्होंने कहा, कांग्रेस ने धर्मशाला के महत्त्व को समझते हुए ही यहां पीडब्ल्यूडी, आईपीएच और बिजली बोर्ड के चीफ इंजीनियर बैठाए. बाद में शिमला में चल रहा शिक्षा बोर्ड का कार्यालय भी यहां शिफ्ट किया गया.

चुनावों से पहले फिर कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष बनने के सवाल पर सीएम ने कहा कि वह भी प्रोसेस का हिस्सा है. मुख्यमंत्री ने कहा कि वह दो जगह से नहीं, बल्कि एक ही विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे. उन्होंने नए जिलों के गठन की बात को सिरे से नकार दिया.

चंडीगढ़ केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण की ओर से आईएएस विनीत चौधरी और दीपक सानन को कंपीटेंट अथारिटी को ज्वाइनिंग के लिए रिक्वेस्ट भेजने से सवाल पर सीएम ने कहा कि मुझे इसकी जानकारी नहीं है.

Share With:
Rate This Article