कश्मीरी पंडितों की ‘घर वापसी’ के लिए J&K विधानसभा में सर्वसम्मति से पास हुआ प्रस्ताव

जम्मू

जम्मू कश्मीर विधानसभा में शुक्रवार को सर्वसम्मति से कश्मीरी पंडितों और अन्य प्रवासियों की घर वापसी के लिए एक प्रस्ताव पास किया गया. इसके साथ ही इस रिजॉल्यूशन में कहा गया है कि घर वापसी करने वाले प्रवासियों के लिए घाटी में अनुकूल माहौल बनाया जायगा.

जैसे ही सदन की कार्यवाही शुरू हुई पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि सदन को दलगत राजनीति से ऊपर उठकर कश्मीरी पंडितों, सिखों और अन्य प्रवासियों की घर वापसी के लिए एक प्रस्ताव पास किया जाना चाहिए. इसके बाद सदन ने इस प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पारित कर दिया.

इस मौके पर नेशनल कॉन्फ्रेन्स के कार्यकारी अध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने कहा कि दुर्भाग्यवश राज्य में 27 साल पहले ऐसी परिस्थितियां बनीं कि कश्मीरी पंडित, सिख समुदाय और कुछ मुस्लिमों को घाटी छोड़कर कहीं और शरण लेना पड़ी. अब्दुल्ला ने कहा, आज 27 साल हो गए, जब घाटी से कश्मीरी पंडितों, सिखों और कुछ मुस्लिमों ने पलायन किया था लिहाजा, हमें दलगत राजनीति से ऊपर उठकर आज उनकी घर वापसी के लिए एकजुट होना चाहिए.

सदन में जब शून्य काल खत्म हुआ तब संसदीय कार्य मंत्री अब्दुल रहमान वीरी ने सदन में प्रस्ताव को लाने की मंजूरी दी. इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष कविन्दर गुप्ता ने सदन में प्रस्ताव रखा जिसे पूरे सदन ने सर्वसम्मति से पास कर दिया.

Share With:
Rate This Article