डॉ. बावा हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने में लगी पुलिस, जानिए किसका होगा पॉलीग्राफी टेस्ट

दादरी

डॉ.केएल बावा हत्याकांड को सुलझाने के लिए जिला पुलिस भिवानी जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे बवानी खेड़ा निवासी किरोड़ी को प्रोडक्शन वारंट पर लेकर आएगी। वहीं पुलिस ने मजिस्ट्रेट से डॉ. बावा के कार चालक अल्ट्रासाउंड केंद्र हेल्पर का पॉलीग्राफी टेस्ट करवाने की इजाजत ली थी, लेकिन अब पुलिस शक के आधार पर अल्ट्रासाउंड केंद्र ऑनर और एक युवक बामला गांव का रहने वाला है जिस पर पीड़ित परिजनों ने भी शक जाहिर किया है। पुलिस जल्द ही इन चारों का पॉलीग्राफ टेस्ट करवाएगी।

जिला पुलिस डॉ. केएल बावा हत्याकांड को सुलझाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। पुलिस ने मंगलवार को ही हत्याकांड से जुड़े लोगों की जानकारी देने वाले को पांच लाख रुपये इनाम देने की भी घोषणा की थी। वहीं पुलिस अब मामले को लेकर भिवानी जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे बवानी खेड़ा के गांव बलियाली निवासी किरोड़ी को प्रोडक्शन वारंट पर पूछताछ के लिए लेकर आएगी। डॉ. बावा की हत्या को एक माह बीत चुका है, लेकिन पुलिस के हाथ अभी भी हत्यारों तक नहीं पहुंच पाए हैं। ऐसे में पुलिस बड़े लेवल के अपराधियों से भी पूछताछ करने में लगी हुई है। डॉ. बावा हत्याकांड के एक माह बाद पीड़ित परिजनों ने पुलिस के सामने बामला निवासी रूपल पर हत्या का शक जाहिर किया है। गांव बामला निवासी रूपल ने डॉ. बावा से किसी बीमारी का उपचार करवाया था। जिसके बाद बीमारी को लेकर रूपल का डॉ. बावा के साथ विवाद हो गया था। दोनों का यह विवाद अभी भी चल रहा था और यह मामला न्यायालय में पहुंचा है। डॉ. बावा के परिजनों ने जिला पुलिस के सामने रूपल पर शक जाहिर किया है जिसका जल्द ही पुलिस पॉलीग्राफी टेस्ट करवाएगी।

अल्ट्रासाउंडकेंद्र मालिक, चालक और हेल्पर का भी होगा टेस्ट
जिलापुलिस डॉ. केएल बावा के सूर्या अल्ट्रासाउंड केंद्र के आॅनर अफलातून का भी संदेह के चलते पॉलीग्राफी टेस्ट करवाएगी। इसी के साथ डॉ. बावा के कार ड्राइवर सतीश कुमार पर भी शक की सुई घूम रही है। क्योंकि बावा हत्याकांड से दो दिन पहले ही छुट्टी ले गया था। ऐसे में डॉ. बावा खुद अपनी कार को चलाकर भिवानी से दादरी रहे थे। इसी के साथ अल्ट्रासाउंड केंद्र पर डॉ. बावा का हेल्पर दादरी निवासी ईश्वर सिंह का भी पॉलीग्राफी टेस्ट करवाया जाएगा।

^हम डॉ. केएल बावा हत्याकांड को सुलझाने के लिए कार्य कर रहे हैं। मामले में भिवानी जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे बलियाली निवासी किरोड़ी को प्रोडक्शन वारंट पर लाया जाएगा जिससे कुछ क्लू हाथ लगे तो रिमांड पर भी लिया जाएगा। इसी के साथ डॉ. बावा के अल्ट्रासाउंड केंद्र ऑनर, कार चालक केंद्र हेल्पर और बामला निवासी के एक पेसेंट का पोलीग्राफी टेस्ट करवाया जाएगा।” सुनीलदलाल, पुलिस अधीक्षक

ये है मामला
दादरी सूर्या अल्ट्रासाउंड के डॉ. केएल बावा 12 दिसंबर सुबह 8 बजे अपनी कार से भिवानी से दादरी आने के लिए निकले थे। जिनका रास्ते में ही किसी अज्ञात ने अपहरण कर लिया और गोली मार हत्या कर दी। इसके बाद डॉ. बावा का शव रासीवास  गांव की बणी में फेंक दिया और उनकी स्विफ्ट डिजायर कार को 25 किलो मीटर दूर फतेहगढ़ के खेतों में जला दिया गया। डॉ. केएल बावा हत्याकांड को सुलझाने के लिए हिसार रेंजी आईजी ओपी सिंह ने एसआईटी गठित कर उसमें दादरी एसपी सुनील दलाल भिवानी एसपी अशोक कुमार को शामिल किया था। इसी के साथ दादरी भिवानी सीआईए पुलिस की संयुक्त टीम गठित की हुई है। वहीं मंगलवार को पुलिस ने हत्याकांड के आरोपियों की जानकारी देने पर पांच लाख रुपये इनाम राशि जारी कर दी है।

केएल बावा की जली हुई कार

डॉ. केएल बावा की जली हुई कार

साहुवास निवासी सतेंद्र उर्फ काला ढाणी फौगाट निवासी खिलावनचंद की हत्या का मुख्य आरोपी प्रदीप कासनी को दादरी सीआईए पुलिस ने 15 जनवरी को राजस्थान के राजसमंद से दबोच लिया था। इस दौरान प्रदीप के साथ बवानी खेड़ा के बलियाली गांव निवासी अमरदीप भी पकड़ा गया था। अमरदीप ने 1 जनवरी को बवानीखेड़ा के चिकित्सक डॉ. जगदीश अरोड़ा पर फायरिंग कर हत्या करने का प्रयास किया था। जिसके बाद से अमरदीप प्रदीप कासनी के साथ मिलकर फरार हो गया था। ऐसे में डॉ. बावा पर फायरिंग करने वाले अमरदीप के गांव का ही किरोड़ी भी है। ऐसे में संदेह है कि अमरदीप ने ही पुलिस को डॉ. बावा हत्याकांड में किरोड़ी से पूछताछ करने के लिए कोई क्लू दिया है। जिससे हत्याकांड में जल्द ही खुलासा हो सकता है।

Share With:
Rate This Article