बिजली संकट को लेकर जम्मू कश्मीर विधानसभा में हंगामा, नैंकां ने किया वॉकआउट

जम्मू

भारी हिमपात को लेकर कश्मीर घाटी में बिजली आपूर्ति बाधित रहने को लेकर जम्मू कश्मीर विधानसभा में लगातार दूसरे दिन हंगामा हुआ. आज सुबह सदन की बैठक शुरू होते ही अली मोहम्मद सागर के नेतृत्व में नेशनल कांफ्रेंस के सदस्यों ने आरोप लगाया कि कश्मीर घाटी में भारी हिमपात के कारण बिजली आपूर्ति बाधित है और सरकार इसे बहाल करने में विफल रही है.

विधानसभा अध्यक्ष कवीन्द्र गुप्ता ने विपक्षी सदस्यों को आश्वस्त किया कि बिजली विभाग का प्रभार संभालने वाले उपमुख्यमंत्री निर्मल सिंह इस विषय पर सदन में बयान देंगे. सदन में उपमुख्यमंत्री निर्मल सिंह ने कहा कि कश्मीर घाटी में भारी हिमपात के कारण बिजली आपूर्ति बाधित हुई है लेकिन अधिकारियों के सतत प्रयास के कारण आपूर्ति को बहाल कर दिया गया है.

उन्होंने कहा कि अभूतपूर्व हिमपात के कारण 561 ट्रांसफर्मरों को काफी नुकसान पहुंचा था और उनकी या तो मरमत कर दी गई है या उन्हें बदल दिया गया है. सिंह ने कहा कि लगातार हिमपात के कारण कई स्थानों पर बिजली आपूर्ति में खामी उत्पन्न हो गई है और विभाग उसे ठीक करने के लिए काम कर रहा है.

उपमुख्यमंत्री के बयान से हालांकि विपक्षी सदस्य संतुष्ट नहीं हुए और सरकार पर सदन को गुमराह करने का आरोप लगाया. विधानसभा उपाध्यक्ष नजीर गुरेजी ने कहा कि सरकार के बयान के बाद चर्चा नहीं करायी जा सकती है. हंगामे के बीव ही लोकसभा अध्यक्ष ने सदन के मार्शलों को कांग्रेस सदस्य असगर अली करबलाई को सदन से बाहर करने का आदेश दिया. इसके बाद विपक्षी कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस ने सदन से वाकआउट किया.

Share With:
Rate This Article