8 लाख लेकर फरार हुआ व्यक्ति गिरफ्तार, जानिए कैसे चुराए थे रुपए

विभिन्न बैंकों की ए.टी.एम. में पैसे डालने वाली कंपनी का कर्मचारी 8 लाख रुपए लेकर फरार हो गया, जिसे पुलिस ने वाकनाघाट में गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार शिमला की एक निजी कंपनी ए.टी.एम. में पैसे भरने का कार्य करती है और कंपनी के कर्मचारी हर रोज बैंकों की चैस्ट से पैसा लेकर विभिन्न ए.टी.एम. में इसे डालते हैं। सोमवार सुबह कंपनी के कर्मचारियों ने एस.बी.आई. और पी.एन.बी. से करीब 34 लाख रुपए का कैश लिया और रोजाना की तरह ए.टी.एम. में पैसा डालने का कार्य शुरू किया। देर शाम वे सभी मशीनों में पैसा डालते हुए सुबाथू पहुंचे जहां पर कर्मचारियों ने पी.एन.बी. के ए.टी.एम. में पैसा डाला और उनके पास करीब 8 लाख रुपए की नकदी बच गई, जिसे वे सोलन शहर के ए.टी.एम. में डालने के लिए चल दिए।

तबीयत ठीक न होने का बनाया बहाना
वाहन के चालक राकेश कुमार ने रास्ते में अपने दोनों साथी कर्मचारियों से कहा कि वह थक गया है और अब वे वाहन चलाएं जिसके बाद चालक राकेश स्वयं पिछली सीट पर बैठ गया। इसी सीट पर 8 लाख रुपए से भरा बैग था और रास्ते में उसने बैग से पैसे निकालकर दूसरे बैग में डाल दिए। सपरून चौक पहुंचने पर उसने साथी कर्मचारियों को बताया कि उसे सिर दर्द हो रहा है और तबीयत ठीक नहीं है इसलिए वह यहीं से सीधे घर जाना चाहता है। शेष बचे पैसों को उसने साथी कर्मचारियों को सपरून के निकट एक निजी बैंक के ए.टी.एम. में डालने को कहा। कर्मचारी भी उसकी तबीयत खराब होने की बात सुनकर इस कार्य के लिए राजी हो गए और उसने दोनों कर्मचारियों को सपरून चौक पर वाहन से उतारा और बैग भी थमा दिए।

जब खाली बैग देख उड़े कर्मचारियों के होश
दोनों कर्मचारी बैग लेकर जब ए.टी.एम. की ओर जा रहे थे तो इसी दौरान उन्होंने बैग खाली देखे तो उनके होश उड़ गए। उन्होंने तुरंत पैसे गायब होने व पूरी घटना की जानकारी अपने आला अधिकारियों को दी और साथ ही पुलिस को भी घटना को लेकर सूचना दी गई। पुलिस ने तुरंत ही वाहन का पीछा शुरू किया और कंपनी का वाहन पुलिस को चंबाघाट में पार्क मिला। इसके बाद पुलिस टीम ने चालक राकेश कुमार की तलाश में वाकनाघाट की ओर रुख किया और उसे 8 लाख रुपए के साथ गिरफ्तार कर लिया। ए.एस.पी. मनमोहन सिंह ने मामले की पुष्टि की है।

Share With:
Rate This Article