पत्नी से परेशान होकर पति ने दी जान, सुसाइड नोट में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

एक युवक ने अपनी पत्नी के कारण ट्रेन के नीचे कटकर जान दे दी। पुलिस के हाथ लगे सुसाइड नोट में इसके पीछे का कारण पता चला। घटना पंजाब के अबोहर की है।

लोहड़ी से एक दिन पूर्व सेतिया कालोनी निवासी एक युवक ने ट्रेन के नीचे आकर आत्महत्या किए जाने के मामले में मृतक के घर से मिले सुसाइड नोट से नया खुलासा हुआ है। इसमें मरने वाले ने अपनी मौत के लिए पत्नी सहित उसके पूरे परिवार वालों को जिम्मेदार ठहराया है।

पुलिस ने सुसाइड नोट के आधार पर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। मरने वाले बाबूराम पुत्र भानीराम के भाई सुखदेव ने पुलिस को दिए बयानों में बताया कि उसकी भाभी चरनजीत कौर चन्नी के उत्तम नगर निवासी बिल्लू सिंह युवक के साथ संबंध थे। वह अकसर बिल्लू को अपने घर बुलाती थी।

बिल्लू ने भी यह बात पंचायत में स्वीकार करते हुए एक शपथ पत्र देकर भविष्य में चन्नी से न मिलने की बात कही और चरणजीत चन्नी ने भी ऐसी हरकत न करने की बात स्वीकारी।

पति, बच्चों को छोड़कर मायके चली गई थी महिला
सुखदेव सिंह के अनुसार कुछ दिनों पहले ही चन्नी पति और बच्चों को छोड़कर अपने ननिहाल परिवार के पास चली गई और पिछले छह माह से वह अपने ननिहाल में ही रह रही थी। उसका बिल्लू से प्रेम प्रसंग चलता रहा। सुखदेव ने बताया कि 12 जनवरी को चन्नी के ननिहाल वालों ने बाबूराम को अपने घर बुलाया। वहां उसकी पत्नी सहित उसके मायके वालों ने उसे अपमानित किया। इससे परेशान होकर बाबूराम ने वहां से निकलते ही ट्रेन के आगे आकर अपनी जान दे दी।

जीआरपी पुलिस ने उस समय धारा 174 की कार्रवाई के बाद शव परिजनों के हवाले कर दिया था। बाद में घर से बाबूराम की ओर से लिखा गया सुसाइड नोट उसकी अलमारी से बरामद हुआ था।

रेलवे थाना प्रभारी बलविंदर सिंह ने बताया कि सुसाइड नोट मृतक की जेब से नहीं बल्कि बाद में घर से मिला है जिसकी रिपोर्ट लीगल अथॉरिटी को भेजी गई है। वहां से मिलने निर्देशों के आधार पर ही कार्रवाई की जाएगी।
पत्नी, प्रेमी और  उसके परिवार को बताया मौत का जिम्मेदार
सुसाइड नोट में बाबूराम ने लिखा था कि वह अपने चार वर्ष के बेटे, दो वर्ष की बेटी और अपने पूरे परिवार से माफी चाहता है कि वह अपनी पत्नी से दुखी होकर इस घटना को अंजाम दे रहा है। उसकी मौत के जिम्मेवार उसकी पत्नी चरणजीत कौर, पत्नी का प्रेमी बिल्लू पुत्र मंगतराम, चरणजीत कौर का मौसा, चरणजीत कौर की मां व उसके दो भाई और उसकी नानी हैं, जिनके कारण उसका जीना भी मुहाल हो रहा है।

चरणजीत कौर का मौसा चरणजीत की शादी कहीं और करना चाहता था ताकि तलाक के बाद उसकी संपत्ति में हिस्सा ले सके। मृतक ने सुसाइड नोट में कहा है कि उन सबको कड़ी सजा मिलनी चाहिए, जिनके कारण वह अपने दो मासूम बच्चों को इस दुनिया में अकेला छोड़कर जा रहा है। उधर, मृतक बाबूराम के परिजनों ने पुलिस अधिकारियों से उक्त लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

Share With:
Rate This Article