खेल मंत्रालय ने IOA का निलंबन खत्म किया

खेल मंत्रालय ने सुरेश कलमाड़ी और अभय चौटाला को आजीवन अध्यक्ष बनाने का फैसला वापस लेने के बाद भारतीय ओलिंपिक संघ  का निलंबन समाप्त कर दिया है। कलमाड़ी और चौटाला को आजीवन अध्यक्ष बनाने के बाद भारतीय ओलिंपिक संघ को चौतरफा विरोध का सामना करना पड़ा था और खेल मंत्रालय ने आईओए को निलंबित कर दिया था। मंत्रालय ने शर्त रखी थी कि जब तक दोनों की नियुक्ति रद नहीं की जाती, आईओए को निलंबित रखा जाएगा।

इससे पहले 10 जनवरी को कलमाड़ी और चौटाला की नियुक्ति रद किए जाने के बाद संघ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि ऐसा खेल मंत्रालय से अनुमोदन और इंटरनैशनल ओलिंपिक कमिटी की ओर से किसी संभावित कार्यवाही को टालने के उद्देश्य से किया गया है। कलमाड़ी और चौटाला को 27 दिसंबर को चेन्नै में हुई आईओए की वार्षिक बैठक में मानद अध्यक्ष बनाया गया था।

मंत्रालय ने कहा कि आईओए पर 30 दिसंबर को लगा निलंबन हटाया जा रहा है क्योंकि उसने कलमाड़ी और चौटाला को आजीवन अध्यक्ष बनाने की गलती स्वीकार कर ली है। मंत्रालय ने बयान में कहा, ‘सरकार ने तुरंत प्रभाव से आईओए की मान्यता पर से निलंबन हटाने का फैसला किया है, क्योंकि इसने तुरंत ही कार्रवाई करते हुए अभय सिंह चौटाला और सुरेश कलमाड़ी को आईओए के आजीवन अध्यक्ष बनाने के अपने पहले के फैसले को पलटने का निर्णय किया है।’

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment