खुशखबरी ! क्‍लेम के लिए अब कर सकेंगे दो हेल्‍थ प्‍लान का यूज, पॉलिसी होल्‍डर को होगा फायदा

अब आप एक ही क्‍लेम के लिए दो हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान का यूज कर सकते हैं भले ही पहली पॉलिसी का सम इन्‍श्‍योर्ड खत्‍म न हुआ हो।इससे पॉलिसीधारक को अपनी जेब से पैसा नहीं देना होगा बल्कि वह दूसरी पॉलिसी का यूज कर सकेगा। भारतीय बीमा विनियामक एवं विकास प्राधिकरण आईआरडीएआई ने हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस रेग्‍युलेशन 2016 के प्रावधानों पर स्‍पष्‍टीकरण जारी किया है।

ऐसे मिलेगा आपको फायदा निजी क्षेत्र की साधारण बीमा कंपनी फ्यूचर जेनराली के हेड, हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस शीराज देशपांडे ने बताया कि अगर किसी के पास दो पॉलिसी है और पहली पॉलिसी से क्‍लेम लॉज करने पर लिमिट की वजह से उसे 20 हजार रुपए अपनी जेब से देना पड़ रहा है तो ऐसे मामले में वह दूसरी पॉलिसी का यूज कर सकेगा। भले ही पहली पॉलिसी का सम इन्‍श्‍योर्ड खत्‍म न हुआ हो। उन्‍होंने बताया कि हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस रेग्‍यूलेशन के पहले के प्रावधान में कहा गया था कि पॉलिसीहोल्‍डर क्‍लेम में दूसरी पॉलिसी का यूज तभी कर सकेगा जब उसकी पहली पॉलिसी का म इन्‍श्‍योर्ड खत्‍म हो जाए।

हेल्‍थ प्‍लान में होती हैं कई तरह की लिमिट
हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्‍लान में रूम रेंट लिमिट सहित कई तरह की लिमिट और सबलिमिट होती है। रूम रेंट लिमिट आपकी पॉलिसी के सम इन्‍श्‍योर्ड के आधार पर तय होती है। अगर आपकी पॉलिसी में रूम रेंट लिमिट 3 हजार है और आप ने 5 हजार रुपए का रूम ले लिया तो पॉलिसी से 3 हजार रुपए ही पेमेंट होगा बाकी  की राशि आपको अपनी जेब से देनी होगी। ऐसे मामले में अगर आपके पास दूसरी पॉलिसी है वह उसमें रूम रेंट लिमिट नहीं है या लिमिट 5 हजार रुपए है तो आप दूसरी पॉलिसी से भी पेमेंट कर सकते हैं। इसके अलावा कुछ बीमारियों और मेडिकल प्रोसीजर के लिए भी सब लिमिट होती हैं।

प्रीमियम बढ़ाने के तीन महीने पहले पॉलिसी होल्‍डर को बताएंगी कंपनियां
बीमा कंपनियों को हेल्‍थ इंन्‍श्‍यारेंस पॉलिसी प्रीमियम बढ़ाने से 90 दिन पहले इसकी जानकारी पॉलिसी होल्‍डर को देनी होगी। भारतीय बीमा विनियामक एवं विकास प्राधिकरण (आईआरडीएआई) ने साधारण बीमा कंपनियों एवं थर्ड पाटी एडमिनिस्टिर्स को इस बारे में एक सर्कुलर जारी किया है।

Share With:
Rate This Article