अब घर बैठे MH ONE न्यूज पर देखें श्री शिव खोड़ी धाम से LIVE आरती

रियासी

भोलेबाबा के भक्तों के लिए एक अच्छी खबर है. अब भक्त रियासी के श्री शिवखोड़ी धाम से सुबह शाम लाइव आरती के दर्शन एमएचवन न्यूज़ पर कर सकते हैं. श्री शिवखोड़ी श्राइन बोर्ड और एमएचवन न्यूज़ के बीच हुए करार के बाद अब देश-विदेश में बैठे लोग सुबह-शाम श्री शिवखोड़ी धाम से आरती का दर्शन कर सकेंगे.

श्री शिवखोड़ी श्राइन बोर्ड के उपाध्यक्ष और रियासी जिले के डीसी श्री रविंद्र कुमार ने एमएचवन न्यूज़ के साथ ये करार किया. इस मौके पर रविंद्र कुमार ने बताया कि इस करार की खबर शिवभक्तों के लिए एक बड़ा उपहार है.

अब घर बैठे MH ONE न्यूज पर देखें श्री शिव खोड़ी से LIVE आरती

इस मौके पर एमएचवन की हेड ऑफ ऑपरेशन सविता झिंगन ने बताया कि सिर्फ टीवी पर ही नहीं, एमएचवन न्यूज़ की वेबसाइट और मोबाइल ऐप्प पर भी इस आरती के दर्शन किए जा सकते हैं.

आरती के सुबह शाम लाइव प्रसारण की खबर भक्तों के लिए तो अच्छी खबर है ही, साथ ही टूरिज्म के लिहाज से भी आरती के प्रसारण को फायदेमंद माना जा रहा है. इस मौके पर होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन, कटरा के प्रेसीडेंट राकेश वजीर ने कहा कि ये करार ऐतिहासिक है, जिसका काफी लंबे वक्त से इंतजार किया जा रहा था.

उन्होंने बताया, इस साल 20 लाख से ज्यादा श्रद्धालु श्री शिवखोड़ी धाम में दर्शन करने के लिए पहुंचे थे. उम्मीद की जा रही है कि आने वाले साल में ये तादाद और ज्यादा बढ़ सकती है.

shiv-khori-2

शिव खोड़ी शिवालिक पर्वत शृंखला में एक प्राकृतिक गुफा है, जिसमें प्रकृति-निर्मित शिव-लिंग विद्यमान है. शिव खोड़ी तीर्थ स्थल पर महाशिवरात्रि के दिन बहुत बड़ा मेला आयोजित होता है, जिसमें हजारों की संख्या में लोग दूर-दूर से यहां आकर अपनी श्रद्धा प्रकट करते हैं और मेले में शामिल होते हैं. शिव खोड़ी की यात्रा 12 महीने चलती है.

इस गुफा में दो कक्ष हैं, बाहरी कक्ष कुछ बड़ा है, लेकिन भीतरी कक्ष छोटा है. बाहर वाले कक्ष से भीतरी कक्ष में जाने का रास्ता कुछ तंग और कम ऊंचाई वाला है जहां से झुक कर गुजरना पड़ता है. आगे चलकर यह रास्ता दो हिस्सों में बंट जाता है, जिसमें से एक के विषय में ऐसा विश्वास है कि यह कश्मीर जाता है. यह रास्ता अब बंद कर दिया गया है. दूसरा मार्ग गुफा की ओर जाता है, जहां स्वयंभू शिव की मूर्ति है. गुफा की छत पर सर्पाकृति चित्रकला है, जहां से दूध युक्त जल शिवलिंग पर टपकता रहता है.

Share With:
Rate This Article