BSF जवान ने वीडियो में बयां किया दर्द- परोसा जाता है खराब भोजन, एक्शन में सरकार

दिल्ली

जवानों को घटिया खाना परोसे जाने और अफसरों पर गंभीर आरोप लगाने से जुड़े BSF के एक जवान का विडियो वायरल होने के बाद हलचल मच गई है. BSF ने जवान के दागी इतिहास का हवाला देते हुए उसके आरोपों को खारिज किया है.

हालांकि, जवान ने अपने ऊपर पूर्व में ऐक्शन लिए जाने की बात कबूलते हुए कहा है कि उसके आरोपों की भी जांच होनी चाहिए. जवान ने यह भी कहा है कि अगर उसके इस कदम से उसके साथियों का भला होता है तो अपने साथ होने वाले किसी भी बुरी चीज का सामना करने के लिए तैयार है.
bsf1
बता दें कि तेज बहादुर यादव नाम के जवान ने फेसबुक पर कुछ विडियोज शेयर करके ड्यूटी पर तैनात सैनिकों को को खराब खाना दिए जाने का आरोप लगाया. कहा कि कई बार भूखे पेट भी सोना पड़ता है. विडियो में खाने की क्वॉलिटी दिखा सवाल उठाया कि इसे खाकर 11 घंटे की ड्यूटी कैसे की जा सकती है? जवान ने यह भी आरोप लगाया था कि उनके खाने-पीने की चीजें अफसर बाजार में बेच देते हैं.

आरोपों पर BSF ने बयान जारी करके कहा था कि इस तरह की शिकायत सिर्फ तेज बहादुर ने की है और उसका इतिहास दागी रहा है. जवान का विडियो वायरल होने के बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को प्रतिक्रिया दी.
bsf2
उन्होंने कहा कि इस मामले में तुरंत रिपोर्ट मांगी गई है और जरूरी ऐक्शन लिया जाएगा. वहीं, मंगलवार को गृह राज्य मंत्री किरेन रिजीजू ने भी कहा, ‘सीमाई और मुश्किल हालात वाले इलाकों की सुरक्षा में लगे जवानों की भलाई सर्वोच्च प्राथमिकता है. किसी भी कमी से कड़ाई से निपटा जाएगा.’

तेज बहादुर ने कहा कि ड्यूटी के दौरान होने वाली गलतियों के लिए बहुत सारे लोग सजा पाते हैं. इसके बाद भी वे काम करते हैं. तेज बहादुर ने दावा किया कि उन्होंने बाद में कुछ अच्छे काम भी किए, जिनकी वजह से उन्हें अवॉर्ड भी मिला, लेकिन वे बातें मीडिया में नहीं दिखाई जा रहीं.

तेज बहादुर के मुताबिक, फौज में इस तरह की समस्याएं काफी वक्त से हैं. उन्होंने दावा किया कि उनसे पहले इस तरह का कदम इसलिए नहीं उठाया गया क्योंकि ऐसा करने के लिए बहुत हिम्मत की जरूरत होती है. जवान के मुताबिक, विडियो में उन्होंने जो कुछ भी दिखाया, वह सब कुछ ग्राउंड जीरो पर रेकॉर्ड किया गया और जांच होने पर असलियत सामने आ जाएगी. तेज बहादुर ने बताया कि सेना में बहुत सारी अन्य समस्याएं भी हैं. इंक्वायरी होने पर वह सभी चीजों को सामने रखेंगे.

जवान के मुताबिक, उनके इस कदम से बटैलियन के अन्य साथी बेहद खुश हैं. अगर उनके इस कदम से उनके साथियों का कुछ भला होता है तो किसी भी बुरे का सामना करने के लिए तैयार हैं. जवान ने कहा कि उसे पीएम मोदी पर भरोसा है और पूरी उम्मीद है कि इस मामले में उचित कार्रवाई की जाएगी. खुद पर ऐक्शन लिए जाने की आशंकाओं पर तेज बहादुर ने कहा कि चूंकि विडियो पब्लिक में चला गया है, इसलिए उनके साथ फिलहाल कुछ नहीं होगा. मुमकिन है कि बाद में कुछ ऐक्शन लिया जाए.

इस बीच एक अन्य चैनल से बातचीत में जवान ने दावा किया कि उस पर विडियो हटाने के लिए दबाव डाला जा रहा है. उसकी ड्यूटी कैंप से हटाकर बीएसएफ हेडक्वॉर्टर पर कर दी गई है. और तो और, उसे प्लंबर की ड्यूटी दे दी गई है. उधर, विपक्षी नेता और खिलाड़ी भी जवान के पक्ष में खड़े होना शुरू हो गए हैं. जेडीयू अध्यक्ष शरद यादव ने जवान को इनाम देने की मांग की है. वहीं, पूर्व क्रिकेटर सहवाग ने भी आरोपों को गंभीरता से लिए जाने की मांग की है.

खुद को BSF की 29वीं बटालियन का सदस्य बताते हुए तेज बहादुर ने फेसबुक पर तीन विडियो शेयर किए. उन्होंने मेस में बन रहे खाने को दिखाया. विडियो में बताया कि उन्हें मिलने वाला भोजन बेहद खराब होता है और कई बार जवान भूखे सो जाते हैं. आरोप लगाया कि अधिकारी सारा खाना बाजार में बेच दिया जाता है. बाद में तेज बहादुर एक अन्य फेसबुक पोस्ट में कहा कि वह देश के सच्चे सिपाही हैं. उनका किसी के प्रति गलत विचार नहीं है. उन्होंने कहा कि अगर उनसे कोई गलती हो गई हो तो उन्हें माफ कर दिया जाए.

Share With:
Rate This Article