‘बेरोजगारी भत्ता देने की बजाए युवाओं को प्रशिक्षित करेगी हिमाचल सरकार’

मंडी

मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा है कि बेरोजगारी भत्ता कोई वृद्धावस्था या अपंगता पेंशन की तरह नहीं है कि इसे प्रदेश के युवाओं को दे दिया जाए. बेरोजगारी भत्ता केंद्र सहित कोई भी अन्य सरकार नहीं दे सकती है.

मंडी में पत्रकारों से बातचीत में सीएम ने कहा कि युवाओं को प्रदेश सरकार बेरोजगारी भत्ता नहीं देगी, बल्कि कौशल विकास भत्ते के रूप में युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा. इसके लिए एशियन डिवेलपमेंट बैंक से सरकार ने साढे़ पांच सौ करोड़ की मदद ली है. कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणापत्र में बेरोजगारी भत्ता देने की नहीं, बल्कि कौशल विकास भत्ते की बात कही थी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ वर्षों बाद एक दिन ऐसा आएगा जब प्रदेश में कौशल विकास भत्ते की वजह से सब बेरोजगारों के पास रोजगार या स्वरोजगार होगा, इसलिए सरकार बेरोजगारी भत्ता नहीं, बल्कि अपने पैरों पर युवाओं को खड़ा करने के लिए कौशल विकास भत्ता ही देती रहेगी.

Share With:
Rate This Article