कुल्लूः चरस तस्करी मामले में निजी होटल मालिक के मैनेजर गिरफ्तार

कुल्लूः चरस तस्करी मामले में निजी होटल मालिक के मैनेजर गिरफ्तार

कुल्लू

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने हिमाचल के कुल्लू जिले में स्थित गांव कासोल में होटल चलाने की आड़ में ड्रग तस्करी कर रहे होटल मालिक और होटल मैनेजर को 4.272 किलो चरस के साथ गिरफ्तार किया है. पकड़े गए आरोपियों की पहचान होटल यश पैलेस के मालिक कासोल निवासी यशपाल (40) और कुल्लू जिले के गांव ग्रहान के रहने वाले रामप्रकाश (39) के रूप में हुई है.

एनसीबी चंडीगढ़ जोन के सुपरिंटेंडेंट कुलदीप शर्मा ने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर शनिवार सुबह करीब 7 बजे होटल यश पैलेस पर एनसीबी ने रेड की. होटल के एक स्टाफ रूम से अलमारी में रखी 4.272 किलो चरस बरामद हुई. इस रूम में होटल का मैनेजर रामप्रकाश सोया हुआ था.

टीम ने पूछताछ के बाद मैनेजर राम प्रकाश और होटल मालिक यशपाल को भी गिरफ्तार कर लिया. एनसीबी ने बताया कि आरोपियों ने यह खेप शनिवार को इनोवा गाड़ी से चंडीगढ़ भेजनी थी. बताया जा रहा है कि दोनों आरोपी पिछले कई सालों से ड्रग तस्करी में लिप्त थे. आरोपी चंडीगढ़ में कॉलेज छात्रों को चरस सप्लाई करते थे. एनसीबी ने बताया कि आरोपी यशपाल की पत्नी कासोल गांव की प्रधान पद पर काबिज है.

एनसीबी ने दूसरी चरस की एक बड़ी खेप पंजाब के रोपड़ बस स्टैंड से पकड़ी. गिरफ्तार आरोपी की पहचान हिमाचल के चंबा जिले के गांव किनूनी निवासी नरसिंह (27) के रूप में हुई है. एनसीबी टीम ने नरसिंह को शनिवार सुबह बस स्टैंड से 7 किलो चरस के साथ पकड़ा. एनसीबी को सूचना मिली थी कि आरोपी नशे की खेप के साथ बस स्टैंड पर आ रहा है.

एनसीबी ने बस स्टैंड पर ट्रैप लगाया और जैसे ही नरसिंह वहां पहुंचा उसको दबोच लिया. नरसिंह के पास एक बैग था जिसमें सात किलो चरस छिपा कर रखी हुई थी. एनसीबी ने बताया कि वो नरसिंह के पीछे पिछले छह महीने से लगी हुई थी, लेकिन अब जाकर कामयाबी मिली है. एनसीबी ने बताया कि नरसिंह चरस की सप्लाई पंजाब के लुधियाना में खासकर कॉलेज में पढ़ने वाले छात्रों को करता था.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment