New Year के जश्न में डूबा हिमाचल, सैलानियों ने की जमकर मौज-मस्ती

शिमला

साल 2016 को अलविदा कहने और 2017 का स्वागत करने के लिए हिल्स क्वीन शिमला में जमकर जश्न मनाया गया. शिमला में सैलानियों का देर रात तक जश्न का दौर चला और स्थानीय लोगों ने जमकर मौज-मस्ती की.

विंटर कार्निवाल के अंतिम दिन रिज मैदान पर डी.जे. नाइट आयोजित की गई और पर्यटकों व स्थानीय लोगों ने डी.जे. की धुनों पर रिज मैदान पर खूब धमाल मचाया. दिनभर पर्यटक बर्फबारी की आस लगाए बैठे थे और इस बीच कुछ देर के लिए बादल भी छाए थे लेकिन बर्फबारी नहीं हुई.
newyear2
राजधानी स्थित विभिन्न होटलों में नववर्ष की पूर्व संध्या पर काफी रौनक दिखने को मिली. इस दौरान होटलों व रेस्तरां में कई खास आयोजन किए गए थे. होटलों में पर्यटकों व स्थानीय लोगों ने डी.जे. की धुनों पर थिरकर नए साल का स्वागत किया. हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम के होटलों व रेस्तरां में नए साल के स्वागत के जश्न को लेकर खास तैयारियां की थीं, जिसका पर्यटकों ने काफी लुत्फ उठाया.

राजधानी शिमला में दोपहर से ही नववर्ष की सरगर्मियां तेज हो गई थीं और रात को थिरकते हुए कब नया साल आ गया, लोगों को पता ही नहीं चला. जैसे ही नए साल का आगाज हुआ, वैसे ही लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा. इसके बाद सीटियों, तालियों और चीखों के बीच नए साल का स्वागत किया गया. लोगों ने एक-दूसरे के गले मिलकर नए साल की बधाई दी. यहां शहर में देर रात नववर्ष का धूमधाम से स्वागत किया गया.
newyear3
पर्यटकों की आमद को देखते हुए पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों के चेहरे खिल गए थे. जानकारी के अनुसार शिमला में नववर्ष की पूर्व संध्या पर ऑक्यूपैंसी ऌ100 प्रतिशत के बीच रही. नववर्ष की पूर्व संध्या पर पर्यटकों की संख्या को देखते हुए जिला प्रशासन ने पार्किंग के लिए विशेष इंतजाम किए थे.

नववर्ष में हुड़दंगी किसी प्रकार का खलल न डाल पाएं, इसके लिए कार्निवाल में शनिवार को बाऊंसरों की संख्या दोगुनी कर दी गई थी. कार्निवाल प्रबंधन समिति के प्रमुख गीतेश ने बताया कि शिमला पुलिस ने भी सुरक्षा को सुनिश्चित करने में भरपूर सहयोग दिया. उनका कहना था कि राजधानी में लोगों ने बेहद शालीन तरीके से नववर्ष का स्वागत किया.
newyear4
नववर्ष की पूर्व संध्या पर नोटबंदी का असर भी पूरी तरह खत्म हो गया, जिससे लोगों को राजधानी में किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं हुई. राजधानी के व्यापारियों में भी भारी उत्साह रहा. व्यापार मंडल के अनुसार मंदी के दौर से गुजर रही व्यापार की गाड़ी को पर्यटकों की संख्या से गति मिली है. इससे उनके व्यापार में बढ़ौतरी स्पष्ट देखी जा रही है.

हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी प्रदेश से सटे हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड और यू.पी. आदि राज्यों से लोग नववर्ष का स्वागत करने राजधानी पहुंचे. शिमला के हर भाग पर लोगों की भारी भीड़ रही. होटलों में कमरे न मिलने के कारण बहुत से लोगों को खुले में रहने पर मजबूर होना पड़ा.
newyear5
नववर्ष को यादगार बनाने के लिए शिमला पहुंचे कुरुक्षेत्र से प्रशांत समादिया, रोहित अदिवाल, धीरज कुमार, अमृतसर से विकास पराशर, साहिल व पूजा तथा पंजाब से सचिन अग्रवाल व सपना ने कहा कि पहाड़ों की रानी शिमला आकर वह काफी खुश हैं. पर्यटन नगरी शिमला पहुंचते ही यहां की ठंडक भरी फिजाओं ने उनका दिल मोह लिया. उन्होंने कहा कि शिमला में नया साल उन्हें ताउम्र याद रहेगा. वहीं शाविक व पंखुड़ी का कहना है कि शिमला आकर बहुत अच्छा लग रहा है, मगर यहां अभी बर्फ नहीं गिर रही है. बर्फ गिरती तो यह पल यादगार बन जाता.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment