जेएनयू

जेएनयू प्रशासन ने निलंबित छात्रों के घर भेजा नोटिस

दिल्ली

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में निलंबित छात्रों के प्रति प्रशासन का तेवर तल्ख बना हुआ है. जेएनयू प्रशासन ने निलंबित आठों छात्रों के घर भी उनके अनुशासनहीनता से जुडे़ मुद्दे पर नोटिस भेजा है. वहीं, प्राक्टर ऑफिस ने निलंबित छात्रों को नोटिस भेजकर 2 जनवरी को अपना पक्ष रखने के लिए बुलाया है. प्राक्टर ऑफिस ने कहा है कि यदि छात्रों के पास उनके बचाव में कोई सुबूत है तो उस दिन दोपहर तीन बजे तक उसे प्रस्तुत कर सकते हैं.

दूसरी तरफ जेएनयू प्रशासन के खिलाफ प्रशासनिक भवन के बाहर बिरसा अंबेडकर फुले स्टूडेंट एसोसिएशन सहित अन्य छात्र संगठनों से जुड़े लगभग डेढ़ सौ छात्रों ने बुधवार को प्रदर्शन कर अपना विरोध जताया. उन्होंने बाद में इस संबंध में प्राक्टर से भी मुलाकात की. जेएनयू प्रशासन ने छात्रों के प्रदर्शन के दौरान किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए पत्र लिखकर पहले ही स्थानीय पुलिस से मदद मांग ली थी.

जिसके चलते पुलिस जेएनयू के गेट के बाहर तैनात रही. जेएनयू के रजिस्ट्रार ने वसंत कुंज थाना पुलिस को पत्र लिखकर पूर्व की घटनाओं का संदर्भ देते हुए कहा था कि बुधवार को प्रदर्शन के दौरान छात्र अनुशासनहीनता की पुनरावृत्ति कर सकते हैं. अत: मुख्य द्वार पर पुलिसकर्मी तैनात किए जाएं, जिससे कि विषम परिस्थिति में वह तुरंत अंदर आ सकें. जेएनयू प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि छात्र अनुशासनहीनता कर रहे हैं, इसलिए उन पर कार्रवाई सुनिश्चित की जा रही है.

जिन छात्रों को निलंबित किया गया है उनको क्लास रूम व हॉस्टल के अलावा कैंपस से भी बाहर रहने के लिए कहा गया है. इस बाबत, विभागाध्यक्ष, डीन, हॉस्टल वार्डन और सिक्योरिटी अधिकारियों को भी मेल द्वारा सूचित कर दिया गया है.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment