मणिपुर में बंद नेशनल हाइवे को खुलवाने के लिए केंद्र सरकार ने भेजे 4000 जवान

दिल्ली

केंद्र सरकार ने मणिपुर में राष्ट्रीय राजमार्ग को खोलने के अपने प्रयास के तहत अर्द्धसैनिक बलों के चार हजार अतिरिक्त जवानों को रवाना किया है, जिस पर करीब दो महीने से एक नागा समूह ने नाकेबंदी कर रखी है. इसके साथ ही पूवोर्त्तर राज्य में स्थानीय प्रशासन को कानून व्यवस्था बनाए रखने में सहयोग के लिए केंद्रीय सुरक्षा बलों के जवानों की संख्या बढ़कर 17 हजार 500 हो गई है.

गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, हमारी पहली प्राथमिकता राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या दो को खोलना है जो मणिपुर को (नगालैंड से) जोड़ता है. दूसरे राजमार्ग (एनएच 37) को खोल दिया गया है, लेकिन हम (एनएच़ 2) को जल्द से जल्द खोलना चाहते हैं. यूनियन नागा काउंसिल (यूएनसी) द्वारा एक नवम्बर से राष्ट्रीय राजमार्गो पर की गई आर्थिक नाकेबंदी के बाद सुरक्षा बलों को पूवोर्त्तर राज्यों में भड़की हिंसा के मद्देनजर भेजा गया था.

यूएनसी ने एनएच़ 2 (इंफाल-दीमापुर) और एनएच 37 (इंफाल-जिरिबाम) पर आर्थिक नाकेबंदी लगाई थी जो मणिपुर के लिए जीवनरेखा की तरह काम करते हैं. इंफाल-उखरूल मार्ग पर भीड़ द्वारा 22 यात्री गाड़ियों में तोड़फोड़ किए जाने और उन्हें जलाए जाने के बाद इंफाल पूर्वी जिले में पिछले एक पखवाड़े से कर्फ्यू लगाया गया है, जबकि इंफाल पश्चिम जिले में शाम से सुबह तक कर्फ्यू लगाया गया था.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment