बांग्लादेश में पुलिस के छापे के दौरान महिला और किशोर ने खुद को विस्फोट से उड़ाया

ढाका

बांग्लादेश की राजधानी में पुलिस की विशिष्ट आतंकवाद निरोधक इकाई ने शनिवार को जब एक तीन मंजिला इमारत पर छापा मारा तब एक महिला और एक किशोर ने खुद को विस्फोटक से उड़ा लिया. इस इमारत में भारी हथियारों से लैस उस इस्लामी समूह से जुड़े उग्रवादी छिपे थे जिस पर कैफे पर हमला करने का आरोप है.

ढाका मेट्रोपोलिटन पुलिस (डीएमपी) के आतंकवाद निरोधक इकाई ने राजधानी के अशकोना इलाके में तड़के इमारत को घेर लिया. उन्होंने इमारत को घेर लिया और इमारत में रहने वाले लेागों को निकालने के बाद उग्रवादियों से बाहर आकर आत्मसमर्पण करने को कहा. पुलिस ने इमारत में घुसने की कोशिश नहीं की क्योंकि उग्रवादियों के पास भारी मात्रा में विस्फोटक थे.

इकाई के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘हमने आज अपराह्न अभियान को खत्म कर दिया क्योंकि एक महिला सहित दो (उग्रवादी) मारे गए और दो अन्य महिलाओं ने दो नाबालिग बच्चों के साथ आत्मसमर्पण कर दिया.’’ आतंकवाद निरोधक इकाई के वरिष्ठ अधिकारी सोनवर हुसैन ने मीडिया से कहा बुर्के में एक महिला एक बच्चे के साथ बाहर आई और अपनी कमर में बने विस्फोटक से विस्फोट कर लिया.

इमारत पर आंसू गैस के गोले छोड़ने के बाद पुलिस जैसे ही इमारत की ओर बढ़ी और उन्होंने गोली चलाई फिर एक अन्य विस्फोट की आवाज सुनाई दी क्योंकि इमारत में छिपे एक किशोर लड़के ने खुद को विस्फोटक से उड़ा लिया.

जब महिला ने खुद को उड़ाया तब एक नाबालिग लड़की को छर्रे लग गए और वह जख्मी हो गई जिसे अस्पताल ले जाया गया. एक अधिकारी ने कहा कि मृत लड़का फरार निओ जमात उल मुजाहिदीन बांग्लादेश (न्यू-जेएमबी) के नेता का बेटा है जबकि महिला संगठन के अन्य सरगना की पत्नी है.

ढाका के पुलिस आयुक्त असद उज़ ज़मां मियां ने पहले संवाददाताओं से कहा कि हम उनसे लगातार आत्मसमर्पण के लिये कह रहे थे. निओ-जेएमबी एक जुलाई को ढाका कैफे पर हुए हमले के पीछे था जिसमें 17 विदेशियों सहित 22 लोगों की मौत हो गई थी.

छापेमारी की कार्रवाई को कवर कर रहे हमारे स्टाफ संवाददाता ने खबर दी है कि अपराह्न से इलाके में कई विस्फोटों और गोलियां चलने की आवाजें सुनाई दी हैं. कानून प्रवर्तकों ने विस्फोट के बाद इमारत पर आंसू गैस के कई गोले दागे.

Share With:
Rate This Article