नोटबंदीः कैश जमा न होने पर लोगों ने की बैंक अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी

लुधियाना

पंजाब एंड सिंध बैंक की सलेम टाबरी स्थित शाखा में 500 रुपए की पुरानी करंसी के नोट जमा न होने के आदेशों को लेकर आज बैंक के खाताधारकों ने प्रबंधकों के खिलाफ नारेबाजी की. गुस्साए लोगों ने आरोप लगाए कि बैंक प्रबंधकों द्वारा केन्द्र सरकार के आदेशों के बावजूद भी 5000 रुपए तक की राशि को खाताधारकों के खाते में जमा करने को कोरी मनाही की जा रही है.

भड़के लोगों ने अपना-अपना तर्क देते हुए बैंक प्रबंधकों पर भेदभाव भरी नीति अपनाने के आरोप जड़े, वहीं बैंक में पहुंची एक एन.आर.आई. महिला ने जब बैंक प्रबंधकों को अपने खाते में 2 लाख रुपए की राशि जमा करने को कहा तो बैंक प्रबंधक द्वारा महिला को बैरंग लौटा दिया गया.

दरअसल हुआ कुछ यूं कि महिला जब 2 लाख रुपए के 500-500 रुपए के पुराने नोट अपने खाते में जमा करवाने पहुंची तो उसके पास बैंक अधिकारी के किसी भी सवाल का जवाब नहीं था जैसे कि यह राशि उनके पास कैसे और कहां से आई और उन्होंने अभी तक उक्त राशि बैंक में जमा क्यों नहीं करवाई.

उक्त सवालों के संबंध में अपना तर्क देते हुए महिला ने कहा कि उन्होंने अपनी विदेश करंसी को भारतीय करंसी में कन्वर्ट करवाकर 2 लाख रुपए लिए थे जिसे वह अब खाते में जमा करवाना चाहती है जबकि बैंक मैनेजर द्वारा जब एन.आर.आई. महिला से बदलवाई गई करंसी का बिल दिखाने की बात कही गई तो वह इस संबंध में कोई उचित जवाब नहीं दे पाई जिसके चलते उन्हें मायूस होकर लौटना पड़ा.

नारेबाजी करने वाली पब्लिक द्वारा लगाए गए आरोपों का जवाब देते हुए अधिकारी अवनीश कुमार ने कहा कि सरकारी आदेशों के मुताबिक कोई भी खाताधारक केवल एक ही बार अपने खाते में 500 रुपए के पुराने नोट जमा करवा सकता है, जबकि उक्त लोग बार-बार पुराने नोट जमा करवा कर नियमों की अनदेखी कर रहे हैं. ऐसे में जब लोगों को सरकारी आदेशों का हवाला देते हुए बात समझाने की कोशिश की गई तो लोगों ने बवाल खड़ा कर दिया.

Share With:
Rate This Article