टीम इंडिया की इंग्लैंड पर सबसे बड़ी जीत, सीरीज पर 4-0 कब्जा

चेन्नई

रविंद्र जडेजा की करिश्माई गेंदबाजी और बेहतरीन फील्डिंग के दम पर भारत ने इंग्लैंड को पांचवें और अंतिम टेस्ट मैच में एक पारी और 75 रन से करारी शिकस्त देकर पांच मैचों की सीरीज 4-0 से जीती.

इंग्लैंड ने सुबह जिस तरह से शुरूआत की थी उससे लग रहा था कि वह मैच बचाने में सफल रहेगा लेकिन इसके बाद जडेजा का जादू चला जिन्होंने अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी करते हुए 48 रन देकर 7 विकेट लिए. इसके अलावा उन्होंने 3 कैच भी लपके और केवल 2 सेशन के अंदर इंग्लैंड के 10 विकेट निकालने और उसकी पारी 207 रन पर समेटने में अहम भूमिका निभायी. जडेजा ने एक मैच में भी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और 154 रन देकर दस विकेट लिए.

इंग्लैंड ने अपनी पहली पारी में 477 रन बनाये थे जिसके जवाब में भारत ने करूण नायर (नाबाद 303 रन) के तिहरे शतक और लोकेश राहुल (199) के बड़े शतक के दम पर अपनी पारी 7 विकेट पर 759 रन पर पारी समाप्त घोषित की. भारत ने इस तरह से पहली पारी में 282 रन की बढ़त हासिल की थी.

इंग्लैंड ने आज सुबह जब शुरूआत की तो वह भारत से 270 रन पीछे था. पहला सेशन इंग्लैंड के नाम रहा लेकिन दूसरे सेशन से कहानी बदल गयी. इंग्लैंड ने 104 रन के अंदर अपने सभी विकेट गंवा दिये.

भारत ने पिछले 18 टेस्ट में कोई मैच नहीं गंवाया है जो कि नया भारतीय रिकॉर्ड है. यही नहीं उसने इस साल कुल नौ टेस्ट मैचों में जीत दर्ज की. यह एक कैलेंडर वर्ष में भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है. इससे पहले उसने 2010 में 8 टेस्ट मैच जीते थे.

इंग्लैंड की टीम लगातार दूसरे मैच में पहली पारी में 400 रन का स्कोर बनाने के बावजूद हार झेलने वाली दूसरी टीम भी बन गयी. इससे पहले 2010 में ऑस्ट्रेलिया ने भारत के खिलाफ ही लगातार 2 मैच इस तरह से गंवाये थे. यह पहला अवसर है जबकि भारत ने इंग्लैंड से किसी सीरीज में 4-0 से हराया. इससे पहले उसने अपने इस प्रतिद्वंद्वी को 1993 में अपनी सरजमीं पर 3-0 से हराया था.

भारत पहले सेशन में विकेट हासिल नहीं कर पाया. कप्तान एलिस्टेयर कुक (49) और कीटन जेनिंग्स (54) ने कुछ विषम पलों से गुजरने के बावजूद भारत को पहले सेशन में सफलता नहीं मिलने दी और सुबह बिना किसी नुकसान के 12 रन से स्कोर 97 रन पर पहुंचाया, लेकिन जिस तरह से बांग्लादेश के खिलाफ मीरपुर में इंग्लैंड ने 64 रन के अंदर 10 विकेट गंवाये वैसी ही कुछ स्थिति चेपक स्टेडियम में भी बनी और इंग्लैंड 2 सेशन में धरासायी हो गया. इंग्लैंड का स्कोर एक समय बिना किसी नुकसान के 103 रन था जो लंच के बाद पहले घंटे के अंदर ही चार विकेट पर 129 रन हो गया.

Share With:
Rate This Article