भारी हंगामे के बीच दूसरे दिन नहीं चली हिमाचल विधानसभा

धर्मशाला

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के तपोवन में चल रहे शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन भारी हंगामे के बीच कार्यवाही स्थगित हो गई. आज कोई भी चर्चा नहीं हो पाई. प्रश्न काल से पहले ही भाजपा ने भ्रष्टाचार के मुद्दे को लेकर चर्चा का प्रस्ताव उठाया उन्होंने नियम 67 के तहत स्थगन प्रस्ताव की मांग की.

लेकिन अध्यक्ष ने यह कहकर इस मांग को ठुकरा दिया कि यह मामला न्यायालय में विचाराधीन है. इसलिए इस पर चर्चा नहीं हो सकती. इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए संसदीय कार्य मंत्री मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि कि यह अंतिम फैसला नहीं है.

इसके बाद विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया और नारेबाजी करते हुए अध्यक्ष के आसन के समीप पहुंच गए. अध्यक्ष ने 15 मिनट के लिए विधानसभा की कार्यवाही स्थगित कर दी. इसके बाद जैसे ही फिर से कार्यवाही शुरू हुई.

भाजपा नेताओं ने फिर से इस मांग को लेकर हंगामा शुरू कर दिया. इस बीच सत्ता पक्ष में भी विधायकों ने खड़े होकर भाजपा नेताओं के खिलाफ रोष व्यक्त किया. जब अध्यक्ष ने व्यवस्था नहीं दी, तो भाजपा विधायक फिर नारेबाजी करना शुरू हो गए और उसके विस अध्यक्ष ने आज की कार्यवाही को स्थगित कर दिया. इसी बीच सीएम भी दिल्ली के लिए रवाना हो गए.

Share With:
Rate This Article