राहुल गांधी ने बताया नोटबंदी का मतलब- गरीबों से खींचो, अमीरों को सींचो

जौनपुर (यूपी)

कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने यूपी के जौनपुर में रैली को संबोधित किया. उन्‍होंने लोगों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी और नोटबंदी पर निशाना साधा. रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर मुर्दाबाद के नारे लगने पर राहुल ने कहा कि ये कांग्रेस की मीटिंग है, इसमें मुर्दाबाद का नारा नहीं लगाया जाना चाहिए. उन्‍होंने कहा कि उनके साथ हमारी राजनीतिक लड़ाई भले ही हो लेकिन उनके खिलाफ मुर्दाबाद का नारा लगाना कट्टरपंथी, आरएसएस के लोगों का काम है. ये कांग्रेस का काम नहीं है. कांग्रेस की रैली में मुर्दाबाद के नारे नहीं चलेंगे.

राहुल ने कहा, ‘भ्रष्‍टाचार के खिलाफ किसी भी कदम का सरकार का साथ देंगे. लेकिन आठ नवंबर का फैसला न भ्रष्‍टाचार के खिलाफ न काले धन के. नोटबंदी का फैसला गरीबों, मजदूरों और किसानों के खिलाफ है. सरकार ने बिना पूछे गरीबों का खून निकाल दिया है. यह फैसला देश की 99 प्रतिशत जनता के खिलाफ है. मोदी सरकार पिछले ढाई सालों से गरीबों के खिलाफ काम कर रही है. मैं खुद किसानों की मांग लेकर पीएम से मिला.

राहुल गांधी ने कहा, मैंने किसानों का कर्जा माफ करने का मसला उठाया. प्रधानमंत्री इस पर एक भी शब्‍द नहीं बोले. पीएम ने मनरेगा का मजाक उड़ाया. एक तरफ देश के 99 प्रतिशत लोगों का प्रधानमंत्री मजाक उड़ाते हैं वहीं दूसरी तरफ 50 परिवार हैं. देश के 50 परिवारों के पास सबसे ज्‍यादा धन है. उन्‍होंने कहा कि सारा कैश काला धन नहीं है, सारा काला धन कैश में नहीं है. मतलब किसान जब कैश से बीज खरीदता है, जब मजदूर को कैश में मजदूरी मिलती है, जब मध्‍यम वर्ग मिठाई खरीदने के लिए पैसा निकालता है तो वह काला धन नहीं है.

Share With:
Rate This Article