सरकार पर राहुल गांधी का आरोप, नोटबंदी का मतलब है- ‘गरीबों का पैसा खींचो, अमीरों को सींचो’

पणजी (गोवा)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर जोरदार हमला करते हुए राहुल गांधी ने नोटबंदी को केवल ड्रामा बताया. उन्होंने कहा कि इससे लोगों की परेशानी बढ़ रही है और भ्रष्टाचार पर जो लगाम की बात की जा रही है वो केवल हवा-हवाई है. राहुल ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि पीएम मोदी द्वारा शुरू की गई नोटबंदी ’99 फीसदी ईमानदार लोगों पर बमबारी’ है न कि यह ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ है. साथ ही उन्होंने कहा, मोदी जी का प्लान है कि ‘गरीबों का पैसा खींचो और अमीरों को सींचो.’

कुछ घंटे पहले ही मोदी ने कांग्रेस पर देशहित से उपर निजी हित को रखने के आरोप लगाए थे और दिल्ली में भाजपा संसदीय दल की बैठक में इसे भ्रष्टाचार का समर्थक बताया. राहुल ने पणजी में फातोरदा के नजदीक एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘नरेन्द्र मोदी 8 नवम्बर को उठे और घोषणा कर दी कि आपके जेब में जो रुपये हैं वे अब महज कागज के टुकड़े रह गए. यह काला धन पर सर्जिकल स्ट्राइक नहीं है बल्कि भारत के 99 फीसदी ईमानदार लोगों पर बमबारी है’. राहुल ने कहा कि नोटबंदी इसी तरह से है जैसे द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 200 से 300 लड़ाकू विमान नगरों पर ‘बमबारी’ करते थे और 25 मिनट के अंदर उन्हें पूरी तरह तबाह कर देते थे.

उन्होंने कहा, ‘बमबारी का प्रभाव परमाणु बम से ज्यादा खराब होता था. नरेन्द्र मोदी ने नोटबंदी से इसी तरह की बमबारी की है और पूरे भारत को जला दिया है.’ राहुल ने कहा कि उन्हें संसद के अंदर नहीं बोलने दिया गया इसलिए वो जनसभा ये बातें कर रहे हैं.

राहुल की मानें तो कालाधन महज छह फीसदी नकद में है जबकि 94 फीसदी रियल इस्टेट, सोना या विदेशी खातों में है. मोदी जी इस बात को अच्छी तरह जानते हैं. राहुल ने कहा कि मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनावों में देश में नकदी के बारे में नहीं कहा था बल्कि विदेशों में जमा काले धन को वापस लाने का वादा किया था और हर व्यक्ति के बैंक खाते में 15 लाख रुपये जमा कराने को कहा था. उन्होंने पूछा कि कितने लोगों के बैंक खाते में 15 लाख रुपये आए? काला धन रखने वाले कितने लोगों को मोदी ने जेल भेजा? राहुल ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने ललित मोदी और विजय माल्या को देश से भागने में सहयोग किया.

Share With:
Rate This Article