जेटली ने नोटबंदी को बताया साहसिक फैसला, बोले- अब भारत में फैसला लेने की क्षमता

दिल्‍ली

देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली ने FICCI के कार्यक्रम में बोलते हुए नोटबंदी के सरकार के फ़ैसले को साहसिक क़दम बताया है. उन्‍होंने कहा कि नोटबंदी से कुछ समय की परेशानी है लेकिन लंबे समय का फ़ायदा होगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पिछले एक साल में वैश्विक अर्थव्यवस्था में कई अहम बदलाव हुए हैं.

इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि दुनिया की अर्थव्यवस्था में मंदी आई है लेकिन इस दौर में भी आर्थिक ताक़तों में भारत की अलग जगह है और यहां की अर्थव्यवस्था तेज़ी से बढ़ रही है. जेटली ने सरकार की उपलब्धि पर कहा कि जीएसटी पास होना एक बहुत बड़ा क़दम है.

वित्‍त मंत्री ने सरकार के कदम को साहसिक बताने के साथ ही कहा कि भारत में अब इस तरह के साहसिक निर्णय लेने और उनका क्रियान्‍वयन करने की क्षमता है. उन्‍होंने कहा, ”भारत में नोटबंदी का निर्णय लेने की क्षमता है, अब यह कमजोर अर्थव्‍यवस्‍था नहीं है.” दिल्‍ली में आयोजित फिक्‍की के 89वें वार्षिक आम बैठक में उद्यमियों को संबांधित करते हुए उन्‍होंने यह बात कही.

अरुण जेटली (63) ने कहा कि नोटबंदी का दीर्घकालिक अवधि में लाभ होगा और हाल में शुरू हुई यह प्रक्रिया जल्‍द ही आरबीआई के अधिकाधिक सिस्‍टम में धन मुहैया कराने के साथ ही बहुत जल्‍दी पूरी हो जाएगी. उन्‍होंने कहा, ”इस निर्णय से उत्‍पन्‍न होने वाली तात्‍कालिक परेशानियों को यदि हम सह लेते हैं तो नोटबंदी के दीर्घकालिक अवधि में स्‍पष्‍ट लाभ दिखेंगे.”

पूववर्ती कांग्रेसी सरकार पर निशाना साधते हुए अरुण जेटली ने कहा कि आने वाले समय में यह अपने आप में यह एक नए किस्‍म की सामान्‍य बात होगी. उनके मुताबिक नोटबंदी से अहम शुरुआत हुई है. जब एक बार यह प्रक्रिया पूरी तरह से पूरी हो जाएगी और आगे बढ़ जाएगी तो यह एक नए किस्‍म की सामान्‍य बात होगी क्‍योंकि जो पिछले 70 वर्षों से चल रहा था उसे अस्‍वीकार कर दिया गया है.

Share With:
Rate This Article