ऊनाः चिंतपूर्णी मंदिर में पुराने नोट बदलने के मामले में अधिकारी को पद से हटाया

ऊना

आखिरकार प्रदेश सरकार ने चिंतपूर्णी मंदिर में नोटबंदी के बाद पुराने नोटों को चढ़ावे के पैसे से खपाने के मामले में कार्रवाई करते हुए मंदिर अधिकारी को पद से हटाकर उनका तबादला कर दिया है.

मंदिर अधिकारी के पद पर रहे सुभाष चौहान को चंबा जिला के सिहुंता में उनके गृह राजस्व विभाग के तहत कंसॉलिडेशन आफिसर की जिम्मेदारी सौंपी गई है. मंदिर अधिकारी पर कार्रवाई के आदेश हालांकि करीब एक सप्ताह पूर्व हो गए थे, लेकिन अभी तक उनके तबादले को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं थी.

वीरवार को सरकार ने उनके तबादला आदेश जारी कर दिए. उपायुक्त एवं अध्यक्ष मंदिर न्यास चिंतपूर्णी विकास लाबरू ने मंदिर अधिकारी के तबादला आदेशों की पुष्टि की है.

उन्होंने बताया कि सुभाष चौहान की जगह ऊना में तहसीलदार (रिकवरी) के पद पर सेवारत सरोज कुमारी को मंदिर अधिकारी का प्रभार सौंपा गया है. 12 नवंबर को इस गड़बड़ी को उजागर किया था, जिस पर उपायुक्त ने जांच बैठाते हुए मंदिर अधिकारी समेत सहायक मंदिर अधिकारी को गणना ड्यूटी से हटाते हुए एसडीएम अंब को प्रारंभिक जांच का जिम्मा सौंपा था.

बता दें कि बीते 8 नवंबर को केंद्र सरकार द्वारा 500 व 1000 के नोटों के विमुद्रीकरण के बाद चिंतपूर्णी मंदिर में चढ़ावे के छोटे नोटों से बड़े नोट बदलने की कोशिश की जा रही थी. 11 नवंबर को जब अधिकारियों की मौजूदगी में चढ़ावे की डिटेल बदलवाने को दबाव बनाया गया तो मंदिर के ही एक कर्मचारी ने इसका विरोध किया.

लेकिन उक्त कर्मचारी से कथित तौर पर अभद्रता के साथ नोटों की डिटेल बदलने को दबाव बनाया गया, जिसकी कर्मचारी ने अपने मोबाइल में ऑडियो क्लिप बना ली. मामले की प्रारंभिक जांच के बाद एसडीएम अंब ने उपायुक्त को रिपोर्ट सौंपी. जांच के बाद उपायुक्त ने इसे सचिव भाषा एवं संस्कृति विभाग को भेजा.

उसके बाद सचिव ने मामले में कार्रवाई करते हुए संबंधित विभाग को उक्त अधिकारी को हटाने के आदेश दिए. सूत्रों के मुताबिक इस मामले में सहायक मंदिर अधिकारी पर भी जांच चल रही है. फिलहाल सरकार ने कार्रवाई करते हुए सुभाष चौहान को मंदिर के पद से हटा दिया है.

Share With:
Rate This Article